सामूहिक दुष्कर्म

सामूहिक दुष्कर्म

दुर्गेश लक्षकार, चित्तौड़गढ़, राजस्थानः देवगांव में एक नाबालिग लड़की के साथ चार युवकों ने सामूहिक दुष्कर्म का प्रयास किया। जब आरोपियों ने गांव वालों को देखा तो लड़की को छोड़कर फरार हो गए। इधर ग्रामीण शनिवार की रात साढ़े 10 बजे थाने पहुंचे। वहां सब इंस्पेक्टर गोवर्धन लाल मीणा ने ग्रामीणों को बंद करने की धमकी देकर रिपोर्ट दर्ज करने से मना कर दिया। इधर गुस्साए ग्रामीणों जब गांव लौटे तो एक आरोपी उनके हत्थे चढ़ गया। उसे पकड़कर पेड़ से बांध दिया गया। बाद में उस युवक को छुड़ाने में पुलिस के आला अधिकारियों तक के पसीने छूट गए। ग्रामीणों का आरोप था कि जब लड़की के परिजन ग्रामीण केकड़ी पुलिस थाने में दुष्कर्म की रिपोर्ट दर्ज कराने पहुंचे तो वहां थाना इंचार्ज सब इंस्पेक्टर गोवर्धन लाल मीणा ने कई घंटों की मिन्नत के बाद भी मामला दर्ज नहीं किया गया। वहीं उल्टे ग्रामीणों के साथ अभद्र व्यवहार कर थाने में बंद करने की धमकी दी। इसपर ग्रामीण भड़क गए और उन्होंने देर रात्रि को जयपुर में मौजूद विधायक शत्रुघ्न गौतम को पूरे घटनाक्रम की जानकारी दी। पुलिस की कार्रवाई से असंतुष्ट ग्रामीणों ने गांव पहुंचकर चारों आरोपियों की तलाश शुरू की जिसमें से एक युवक ही ग्रामीणों के हाथ लग सका। यह युवक नशे में धुत्त होकर देवगांव के निकट ही मोज्यों की ढाणी में एक घर में छिपकर सो रहा था। ग्रामीण उसे उठा लाए और उसके साथ मारपीट की। उसे गांव के बीच स्थित एक पेड़ के नीचे बांध दिया। विधायक शत्रुघ्न गौतम ने पुलिस थाने पर मौजूद इंचार्ज सहित अन्य बड़े पुलिस अधिकारियों को पूरा वाकया बताया तथा मामला दर्ज करने को कहा। पुलिस ने शनिवार की देर रात को प्राथमिकी दर्ज की। पुलिस ने देवगांव के लोगों को नाबालिग लड़की को थाने लेकर आने को कहा इस पर ग्रामीण वापस गांव गए और लड़की को लेकर थाने पहुंचे। वहां उसका मेडिकल मुआयना कराया गया। केकड़ी थाना प्रभारी ने रविवार को सुबह सब इंस्पेक्टर शंकर लाल को देवगांव भेजा जिन्हें देख ग्रामीण और भड़क गए और सब इंस्पेक्टर गोवर्धन लाल मीणा को निलंबित करने की मांग पर अड़ गए। बाद में करीब 10 बजे उपखंड अधिकारी जगदीश नारायण बैरवा पुलिस उपाधीक्षक चंचल मिश्रा देवगांव पहुंचे जिन्हें ग्रामीणों ने आधे घंटे तक गांव में घुसने नहीं दिया। करीब डेढ़ घंटे की समझाईश के बाद भी ग्रामीणों द्वारा बंधक आरोपी युवक को नहीं छोड़ने पर पुलिस उपाधीक्षक मिश्रा के निर्देश पर केकड़ी थाना प्रभारी ओमप्रकाश वर्मा पेड़ से बंधे युवक को छुड़ाने मौके पर पहुंचे तो वहां उपस्थित ग्रामीणों ने थाना प्रभारी ओम प्रकाश वर्मा सहित अन्य पुलिस कर्मियों के साथ धक्का मुक्की की। आखिरकार करीब दोपहर सवा 12 बजे विधायक शत्रुघ्न गौतम ने ग्रामीणों को आश्वासन आश्वासन दिया कि सब इंस्पेक्टर को जल्द ही निलंबित कर दिया जाएगा। तब जाकर ग्रामीणों ने बंधक बनाए युवक को पुलिस के हवाले किया जिसे लेकर पुलिस केकड़ी थाने पहुंची तथा युवक का मेडिकल मुआयना प्राथमिक उपचार कराया।

Share This Post

Post Comment