कानपुर, आगरा रेलवे स्टेशनों की हालत हुई खराब

अहमदाबाद, शैलेन्द्र कपिल देव मिश्राः हम बात करने जा रहे है एन.सी.आर., एन.ई.आर. जी हाॅ मैं कहने जा रहा हूॅ शहरों के बारे में जो अपने आप में एक बहुत बड़े शहर माने जाते हंै जिनका नाम है कानपुर, आगरा जैसे बड़े शहरों के स्टेशनों के बारे में हमें बेहद दुःख के साथ कहना पड़ रहा है की इन स्टेशनों को अगर आप में से कोई भी देखेगा तो यही कहेगा की क्या रेल व उनकी व्यवस्था कभी सुधरेगी भी। कानपुर रेलवे स्टेशन का आप थर्ड ए.सी. का वेटिंग रूम देखिये वहां की सुरक्षा व्यवस्था देखिये, मैंने वहां देखा की कानपुर रेलवे स्टेशन का जो ए.सी. वेटिंग रूम है वो बड़ी ही दयनीय स्वरूप में है, वहां जो कुर्सियां है वो काफी जर्जरीत है ए.सी. काम ही नहीं करता और तो और वहां पर लोगों को जवाब तक सही नहीं दिया जाता है।

ठीक ऐसा ही नजारा बल्कि इस से भी खराब अनुभव पूछे कब हुआ जब हम आगरा पहुंचे वहां तो ए.सी. का वेटिंग रूम ही नही था। वहां तो प्लेट फाॅर्म नं. 4 पर जाने की सीढि़यों पर लाइट ही नहीं है ये आगरा फोर्ड की बात है। मैंने वहां कुछ   केन्ट्री के लोगांे की बाते सुनी वे आपस मंे कह रहे थे क्या ऐसा है इंडियन रेलवे इतनी गंदी व्यवस्था है ना तो वेटिंग रूम ना सफाई और उनमें से एक व्यक्ति तो सीढि़यों से नीचे गिर गया क्योंकि वहां अंधेरा काफी था। मैं तो रेल मंत्रालय व मंत्री जी से अखबार के जरिये एक ही निवेदन करना चाहूंगा की सर हो सके तो आगरा, कानपुर जैसे स्टेशनों को सुधारने की कृपा करे ताकि कोई बाहरी व्यक्ति हमरी रेल, हमारी वाणी, हमारी संस्कृति, को गाली ना दे सके।

Share This Post

Post Comment