मोबाइल विकिरण पर अध्ययन के लिए 10 करोड़ रुपए आबंटित

नई दिल्ली। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग ने मोबाइल टावरों से निकलने वाली विकिरणों का मानव स्वास्थ्य पर प्रभाव का अध्ययन करने के लिए 16 संस्थानों को करीब 10 करोड़ रुपए आबंटित किए हैं।
दूरसंचार उद्योग के निकाय सीओएआई ने एक परिपत्र में कहा, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग ने मानव स्वास्थ्य पर इलेक्ट्रोमैग्नेटिक फील्ड (ईएमएफ) के प्रभाव का अध्ययन करने के लिए भारत में 16 अग्रणी वैज्ञानिक संस्थानों को अनुदान दिया है। यह पहली बार है कि सरकार मोबाइल विकिरणों के स्वास्थ्य से जुड़े पहलुओं का व्यापक अध्ययन करा रही है। एक अंतर-मंत्रालयी समिति ने 2011 में इस संबंध में निर्देश जारी किया था।
कौस्तव ने सरकार द्वारा आरटीआई के तहत हासिल की गई सूचना में यह बताया गया है कि विभाग ने 20 और 36 महीनों के बीच की अवधि में विभिन्न अध्ययनों के लिए कुल 9.89 करोड़ रुपए आबंटित किए हैं।

Share This Post

Post Comment