तिरुचानूर मे कल ब्रह्मोत्सव के आखिरी मे कल चक्र स्नान से पद्मावती तिरुचानूर ब्रह्मोत्सव का समापन हुआ

तिरुपति/आंध्र प्रदेश, मनोज कुमार सुराणा : माता पद्मावती को सुबह पालकी सेवा और चक्रस्नान महोत्सव और शाम को ध्वजारोहण करते है आज के दिन सुदर्शन चक्र और उत्सव प्रतिमा को विविध मंगल पदार्थो से अभिषेक करते है सुदर्शन चक्र और उत्सव प्रतिमा को पुष्करणी मे स्नान कराते है पुराण मे मान्यता है कि जो इस चक्र स्नान के साथ कुंड मे डुबकी लगाए गा उस को मोक्ष की प्राप्ति होगी और जन्म धन्य समझते है इसी दिन शाम को ध्वजारोहण के उपलक्ष मे ब्रह्मोत्सव के शुरुवात होने के संकेत का जो गरुड़ ध्वज(झंडा) है उसे उतारा जाता है इस का मतलब यह है कि ब्रह्मोत्सव का समापन हुआ है तिरुचानूर पंचमी चक्रस्नान का बहुत बड़ा महत्व है।

WhatsApp Image 2019-12-02 at 3.01.17 PM

Share This Post

Post Comment