गुजरात के कारोबारी से हुई 1 करोड़ की लूट में दिल्ली पुलिस को मिला अहम सुराग

नई दिल्ली/हार्दिक हरसोरा : नई दिल्ली,  जेएनएन। उत्तरी जिला के कोतवाली थानाक्षेत्र में गुजरात के कारोबारी के कर्मचारी अजीत ठाकोर से हुई एक करोड़ की लूट के मामले में दिल्ली पुलिस को सुराग मिल गया है। कश्मीरी गेट स्थित छत्ता रेल के पास एक व्यक्ति के घर के बाहर लगे सीसीटीवी कैमरे में लुटेरे की तस्वीर कैद मिली है। पुलिस को उम्मीद है कि फुटेज से जांच आगे बढ़ेगी। दशहरा में पुलिस की व्यस्तता के कारण जांच आगे नहीं बढ़ पाई थी। अब जिला पुलिस के अलावा क्राइम ब्रांच भी लुटेरे की पहचान कर उन्हें दबोचने का प्रयास करेगी।

नया बाजार में अंकुर नाम के कारोबारी की अनाज की फर्म है। वह गुजरात के रहने वाले हैं। इस फर्म में कई कर्मचारी काम करते हैं। 25 सितंबर को अंकुर ने दो कर्मचारियों अजीत ठाकोर व राकेश को बाराखंभा स्थित एक फर्म से रुपये लाने को भेजा था। दोनों कर्मी रुपयों से भरे तीन बैग लेकर ऑटो से नया बाजार के लिए निकले थे। अजीत के पास दो बैग थे जिनमें एक में 60 लाख व दूसरे में 40 लाख रुपये थे। राकेश के पास एक बैग था, जिसमें 15 लाख रुपये थे। शाम करीब सात बजे जैसे ही दोनों राजघाट होते हुए छत्ता रेल कश्मीरी गेट की लालबत्ती के पास पहुंचेए उसी समय सफेद रंग की स्विफ्ट कार सवार एक शख्स ने जांच के बहाने ऑटो रुकवा लिया था। कार सवार शख्स ने पुलिस की वर्दी पहन रखी थी।

राकेश को लगा कि पुलिस कर्मी है, उससे रुपयों के बारे में पूछताछ करेगा। लिहाजा चालक के ऑटो रोकते ही राकेश 15 लाख रुपयों से भरा बैग लेकर मौके से भाग गया था। अजीत को लुटेरे ने जांच के बहाने अपनी हरियाणा नंबर की कार में बैठा लिया था और थाने चलने की बात कहकर वहां से चल दिया था। रास्ते में लुटेरे ने अजीत को डरा, धमकाकर कई घंटे तक लालकिला के आसपास घुमाता रहा।
इसके बाद कश्मीरी गेट इलाके में छत्ता रेल के पास उसे कार से उतारकर रुपयों से भरे दोनों बैग लेकर लुटेरा फरार हो गया। घटना के पहले उसने अपने मालिक को जानकारी दी, जबकि कुछ ही दूर स्थित यातायात पुलिस को इस बारे में कुछ नहीं बताया। पुलिस का कहना है कि अगर समय रहते सूचना दे दी जाती, तो लुटेरे जल्द पकड़े जा सकते थे। मुकदमा दर्ज करने के बाद पुलिस ने जब बाराखंभा से लेकर दिल्ली गेट, शांति वन लालबत्ती व लालकिला के आसपास सीसीटीवी कैमरे की जांच की तो कैमरे खराब मिले थे। पुलिस को शक है कि लुटेरा कोई पुलिसकर्मी भी हो सकता है।

Share This Post

Post Comment