चेन्नई में जल समस्या पर एक विचार

तमिलनाडु/चेन्नई, सुभाष चन्द चोराडियाः इमारे बसती चैन्नई में पिछले 6 महिनों से कुछ दशकों से जल भारत के लिए बहुत बड़ी समस्या हो रही है। जल के बिना जीवन की कल्पना नहीं की जा सकती है। इसलिए रहमन जी ने कहा, ‘रहिमन पानी रखिये बिना सब सून, पानी गये न उबरें मोती मानूष चून।’ जैसे-जैसे हमारे देश की आबादी बढ़ती जा रही है वैसे-वैसे पानी की बहुत जरूरत होगी। अगर इस दुनिया में पानी की बहुत जरूरत होगी। अगर इस दुनिया में पानी ना होता तो क्या हम जिंदा रह पाते। इसलिए पानी एक एक-एक बूंद हमारे देश के लिए जरूरी है तो मैं हमारे सरकार से यह कहना चाहता हूं पानी की समस्या को जल्द से जल्द दूर कर दे, पानी का एक बूंद बहुत ही मूल्य है। मैं सुन्दरम स्ट्रीट में रहता हूं। पानी का टेंकर भी बुक करे तो स्ट्रीट में रहता है। पानी का टेंकर भी बुक करे तो 10 दिनों आता है। ऐसी व्यवस्था का क्या मतलब जब सरकार कुछ नहीं कर पाती और जब चुनाव की बारी आती है तब कहते हैं कि हम सब करेंगे पर ऐसा कुछ नहीं  होता।

Share This Post

Post Comment