राम भक्तों के नाम पर भाजपा प्रचार सभा का आयोजन

अमृतसर, गगन जोशी : हिन्दू महासभा राष्ट्रवादी ने अमृतसर में श्री राम जन्मभूमि नियास समिति की ओर से श्री राम मंदिर निर्माण संबंधी आयोजित राम भगत कार्यक्रम को सिर्फ भाजपा का एक राजनीतिक प्रमोशन शो बताया है। हिन्दू महासभा ने कहा कि यह कार्यक्रम राम भक्तों को इकट्ठा करने की बजाए भाजपा के प्रचार करने का ही कार्यक्रम सिद्ध हुआ है। आरोप लगाया गया कि इस सभा में असल राम भक्तों को न तो कार्यक्रम में बुलाया गया और न ही उनको बोलने के लिए समय दिया गया। हिन्दू महासभा राष्ट्रवादी के अध्यक्ष गगनदीप भाटिया, संयोजक महंत राम प्रताप अमरनाथ महाराज और महामंत्री राजविंदर कुमार राजा ने कहा कि भाजपा के इशारों पर चलने वाली श्री राम मंदिर जन्मभूमि नियास समिति की स्थानीय इकाई ने चाह प्रचार किया था कि रविवार को आयोजित किए जाने वाले राम भगत धर्म सभा  कार्यक्रम के दौरान सभी हिन्दू संगठनों और राम भगत संगठनों को बुलाया जाएगा। परंतु इस सभा में शामिल होने के लिए रेडिकल हिन्दू व राम भगत संगठनों हिन्दू महासभा, शिवसेना के अलग अलग ग्रुपों, राम भगत रेडिकल हिन्दू संतों, हिन्दू प्रतिनिधि सभाओं के नेताओं और प्रतिनिधियों को बुलाया ही नहीं गया। यहां तक के जो संत और साधू समाज के संतों महापुरूषों को मंच पर बिठाया भी गया था उन सभी को भी बोलने का वक्त नहीं दिया गया। भाजपा के नेताओं की ओर से मंच संचालन के दौरान सिर्फ भाजपा के प्रचार की बोली बोलने वालों को ही मंच पर बोलने का समय दिया गया। जब उदासीन अखाडा के महंत सुरिंदर दास तालिब ने राम मंदिर के निर्माण के संबंध में भाजपा के सच को मंच से बताना शुरू किया जो मंच संचालिकों ने महंत सुरिंदर  दास तालिब को बोलने से रोक दिया और अन्य संत महापुरूषों को बोलने ही नहीं दिया व कार्यक्रम की समाप्ति की घोषणा कर दी। उन्होंने कहा कि राज्य भर में अलग अलग स्थानों पर राम भक्तों को एक जुट करने के लिए जो कार्यक्रम आयोजित किए गए वह भगवान श्री राम के मंदिर निर्माण के लिए राम भक्तों को एक जुट करने की जगह सिर्फ मोदी और भाजपा के प्रचार तक ही सीमित रहा है रेडिकल राम भगत हिन्दू संगठनों को कार्यक्रम से दूर रखने का हिन्दू महासभा राष्ट्रवादी निंदा करती है। उन्होंने कहा कि हिन्दू महासभा राम भक्तों को एकजुट करने के लिए अपना अलग से प्रोग्राम पेश करेगी। क्योकि श्री राम मंदिर निर्माण को लेकर अदालत में चल रहे केस में हिन्दू महासभा भी पिटीशनर है। हिन्दू महासभा नेता कामेश्वर नाथ इस कंपटीशन में पहले पिटीशनर के रूप में मंदिर निर्माण के लिए लड़ाई लड़ रहे है। जिनको  पंजाब के समूह हिन्दू महासभाई पूर्ण समर्थन करते है।

Share This Post

Post Comment