पति का पत्नी ने किया अपहरण, फिरौती की रकम बैंक से निकलवाते समय फूटा भांडा

लुधियाना, लक्ष्मन जयस्वार : इंग्लैंड से नई दिल्ली स्थित इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरे वृद्ध एनआरआई (अनिवासी भारतीय) का उसकी पत्नी ने अपने साथियों के साथ अपहरण कर लिया। आरोपित उन्हें जालंधर के गांव दकोहा ले गए जहां चार दिन तक बंधक बनाकर उससे मारपीट की गई। आरोपितों को उस समय भागना पड़ गया, जब वे एनआरआई को लुधियाना के फव्वारा चौक स्थित एसबीआई ब्रांच में 15 लाख रुपये निकलवाने के लिए लेकर पहुंचे। वहां एनआरआई ने सूझबूझ दिखाते हुए बैंक की विदड्रॉल स्लिप (आहरण पर्ची) पर लिख दिया ‘आय एम किडनैप्ड, कॉल द पुलिस’। बैंक मैनेजर ने उसी समय पुलिस को फोन कर दिया। पुलिस के आने की भनक मिलते ही आरोपित भाग निकले। पुलिस अधिकारी मनजीत सिंह ने बताया कि आरोपितों की पहचान एनआरआई की पत्नी गांव दकोहा, जालंधर निवासी रजनी शर्मा, पवन, बबलू उर्फ बब्बू, गुरप्रीत सिंह तथा रजनी की मां के रूप में हुई। पुलिस ने प्रितपाल सिंह पलाह (64) की शिकायत पर उनके खिलाफ केस दर्ज किया। अपने बयान में एनआरआई ने बताया कि वह इंग्लैंड के नागरिक हैं। पहली पत्नी से उनका तलाक हो चुका है। अब वह दूसरी शादी करके लुधियाना में शिफ्ट होना चाहते थे। इंग्लैंड में रह रहे एक जानकार की मदद से चार मार्च 2018 को उसकी शादी रजनी (40) से हो गई। रजनी के पहले पति का देहांत हो चुका था। शादी के बाद एक महीना यहां रहने के बाद वह वापस इंग्लैंड चले गए। 4 नवंबर को वह वापस इंडिया लौटे। दिल्ली एयरपोर्ट पर उतरते ही रजनी व अन्य आरोपितों ने उन्हें जबरदस्ती कार की सबसे पीछे वाली सीट पर बैठा लिया। आरोपितों ने उन्हें छोड़ने के एवज में 15 लाख रुपये मांगे। प्रितपाल ने उन्हें बताया कि वह पैसे बैंक से निकलवा कर दे सकता है। इसके बाद आरोपित उन्हें कार में बैठा कर स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की ब्रांच में लेकर आए। पवन व बबलू बाहर कार में बैठे रहे। रजनी व उसकी मां प्रितपाल के साथ बैंक के अंदर चली गईं। वहां विदड्राल स्लिप भरते समय एनआरआई ने कैशियर के लिए मैसेज लिख दिया, जिसे पढ़ते ही कैशियर अंदर मैनेजर के पास भागा। मैनेजर ने फौरन पुलिस को सूचना दे दी। ऐसे पैदा हुई रिश्तों में खटास, सूत्रों ने बताया कि प्रितपाल और रजनी के संबंधों में शादी के कुछ ही समय बाद खटास पैदा हो गई थी। शादी के बाद वो दकोहा में रजनी के घर कुछ दिन रहा। तब उसके बैग में 800 डॉलर थे। कुछ दिन रहने के बाद वह लुधियाना शॉपिंग करने के लिए आया। यहां चेक करने पर उसके बैग में से 500 डॉलर कम निकले। उसने जब फोन कर रजनी से पूछा तो वह साफ मुकर गई। इससे प्रितपाल का दिल टूट गया। प्रितपाल की लुधियाना व हिमाचल में करोड़ों की प्रॉपर्टी है। अब वह रजनी पर विश्र्वास नहीं कर सकता था, इसलिए शादी के एक महीना बाद वो वापस इंग्लैंड चला गया। वहां फोन पर बातचीत के दौरान रजनी ने झूठ बोलते हुए कहा कि उसने बैग खोला जरूर था, मगर उसमें से केवल परफ्यूम की बोतल निकाली थी। उसके बाद प्रितपाल ने उसका फोन उठाना भी बंद कर दिया। अब जब प्रितपाल इंग्लैंड से भारत रवाना हुआ तो उसने अपने आने की सूचना रजनी को नहीं दी। लेकिन किसी तरह रजनी को पता चला गया। यही वजह है कि वह दिल्ली में प्रितपाल की फ्लाइट की लैंडिंग के ठीक पहले से वहां मौजूद थी और अपहरण कर लिया।

Share This Post

Post Comment