पराली से निकल रहे धुएं ने नीले आसमान को किया काला

मानसा, बलजिंदर सिंह : पंजाब और हरियाणा में धान की फसल काट ली गई है अब किसान गेहूं की फसल की बिजाई के लिए जमीन को तैयार कर रहे हैं। जमीन में पराली को आग लगाकर खत्म किया जा रहा है पराली से निकल रहे धुएं ने पंजाब और हरियाणा में नीले आसमान को काले आसमान में बदल दिया है दूर से हो रहे नुकसान से हर कोई व्यक्ति परेशान है सड़क दुर्घटनाएं बढ़ गई हैं दमे का रोग चमड़ी के रोग और अन्य सेहत समस्याओं से लोगों को जूझना पड़ रहा है। सरकार पराली की स्थाई समस्या से निपटने में फेल हुई है जब भारतीय किसान यूनियन मानसा के अध्यक्ष निर्मल सिंह झंडू के और किसान अमरीक सिंह काला से बात की उन्होंने बताया पराली को आग लगाना किसानों की मजबूरी है पराली को खेत से निकलने में कम से कम पांच हज़ार रूपए का ख़र्चा आता है जो गरीब किसान के बस की बात नहीं खेत मे पराली को नश्ट करने के लिए बड़ी मशीनरी चाहिए जो छोटे जमींदार के पास नहीं है इसलिए पराली से निपटने के लिए सरकार किसानों को बोनस देना चाहिए ताके पराली को खेत से बाहर निकालने के लिए किसान ज्यादा खर्च कर सके और उसकी आर्थिक पर पाई केंद्र सरकार बोनस के रूप में करें और पराली की समस्या को खत्म किया जाए।

Share This Post

Post Comment