बेटी का जन्मदिन मनाने की थी तैयारी, घर से उठी एक साथ तीन अर्थियां

बैतूल, हार्दिक हरसौरा : मुलताई। बेटी के जन्मदिन मनाने के लिए गांव से कुलदेवी की पूजा कर लौट रहा परिवार रास्ते में सड़क हादसे का बैतूल शिकार हो गया। इसमें पिता-पुत्र और पुत्री की मौत हो गई। जबकि उनकी मां गंभीर रूप से घायल है। उसे नागपुर अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घटना बुधवार रात छिंदवाड़ा मार्ग पर खैरवानी के पास हुई। गुरुवार को तीनों की एक साथ अर्थी उठी तो पूरे गांव में मातम छा गया। पुलिस ने बताया कि मूल रूप से दुनावा गांव निवासी 48 वर्षीय धर्मेंद्र शिवहरे नागपुर रोड मुलताई पर पिछले चार साल से एक ढाबा चला रहे थे। वह यहां कामथ में रह रहे थे। नवरात्रि पर कुलदेवी की पूजा करने कार एमपी04सीए8055 से दुनावा गए थे। साथ में पत्नी रीना (38 साल), बेटी मुस्कान (18 साल), बेटा तनीश (13 साल) थे। गांव में कुलदेवी की पूजा कर वे रात को वापस कामथ लौट रहे थे कि खैरवानी गांव के पास सामने से आ रही बोलरो वाहन क्रमांक एमपी 09सीएन7482 से भिड़ंत हो गई। भिड़त इतनी जोरदार थी कि उनकी कार की परखच्चे उड़ गए। धर्मेन्द्र की घटना स्थल पर ही मौत हो गई। बेटी मुस्कान और बेटे तनीश ने मुलताई अस्पताल में आने के बाद दम तोड़ दिया। उनकी पत्नी रीना की हालत नाजुक बनी हुई है। उसे नागपुर रैफर किया गया है। जहां उनकी हालत गंभीर बनी हुई है। पुलिस ने बताया कि मृतक तीनों के शव पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिए गए। करोला सहित अन्य स्कूलों में हो गई छुट्टी मुस्कान शिवहरे एक होनहार छात्रा थी जो नगर के निजी स्कूल करोला पब्लिक में कक्षा 11 वीं में अध्ययनरत थीं वहीं उसका भाई तनीष कक्षा आठवीं में उसी स्कूल में पढ़ता था। जैसे ही स्कूल संचालक सुरेन्द्रसिंह राठौर को मुस्कान के मौत की खबर मिली उन्होंने शोक में स्कूल की छुट्टी करा दी वहीं नगर के अन्य स्कूलों में भी छुट्टी दी गई।

Share This Post

Post Comment