पराली जलाने पर 11 जिलों में किसानों पर डाला 8 लाख रुपए का जुर्माना

लुधियाना, संदीप मिश्रा : पंजाब में पराली न जलाने के मामले में अधिकतर जिलों में सरकार व किसान जत्थेबंदियां आमने-सामने आ गई हैं। एक ओर जहां राज्य सरकार ने खेतों  में पराली जलाने वाले किसानों के पंचायती चुनाव लडऩे पर बैन लगाते हुए मामला दर्ज करने सहित जुर्माना लगाने की नीति अपनाई है वहीं दूसरी ओर किसान संगठन भी सरकार से आर-पार की लड़ाई लडऩे के मूड में हैं। किसानों का तर्क है कि उनके पास पराली जलाने के अलावा अन्य कोई विकल्प नहीं है। इसलिए वह सरकार के फैसले के खिलाफ जेल भरो आंदोलन छेडऩे से भी गुरेज नहीं करेंगे। पंजाब सरकार को राज्य के 11 विभिन्न जिलों में पराली जलाने की 569 शिकायतें प्राप्त हुई है जिनमें सरकारी विभागों के अधिकारियों ने कुल 482 स्थानों पर निरिक्षण करते हुए 13 अक्टूबर तक किसानों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए 8,57,500 लाख के करीब जुर्माना किया है। पंजाब पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड व पंजाब रिमोर्ट सैंसलिंग सैंटर सैटेलाइट सिस्टम प्रणाली की सांझा कार्रवाई दौरान उक्त आंकड़े सामने आए है। जिसके आधार पर विभागीय अधिकारियों ने एक्शन लेते हुए जुर्माने की कुल राशि 8.60 लाख रुपए में से अब तक कुल 3 लाख से ऊपर की जुर्माना राशि किसानों से वसूलने की पुष्टि की है। जबकि किसान सरकार से पराली न जलाने के एवज में 200 रुपए प्रति क्विंटल या 5 हजार रुपए प्रति एकड़ मुआवजा देने की मांग कर रहे हैं ताकि वह अपने खेतों में मशीनों द्वारा पराली निकाल कर उसे उचित स्थान पर ले जा सकें।

Share This Post

Post Comment