झज्जर के बेटी ने मनु भाकर ने यूथ ओलम्पिक में जीता स्वर्ण पदक

बहादुरगढ़, कुलदीप कुमार : गोल्डन गर्ल मनु भाकर ने यूथ ओलम्पिक में 10 मीटर एयर पिस्टल इवेंट में जीता गोल्ड। यूथ ओलम्पिक मे शूटिंग में गोल्ड जितने वाली पहली भारतीय महिला बनी मनू भाकर। मनु भाकर के पिता रामकिशन भाकर को है अपनी बेटी पर गर्व। कहा- आगे भी मनु करती रहेगी देश का नाम रोशन। झज्जर के गोरिया गांव की रहने वाली हैं शूटर मनु भाकर। गांव और मनु के स्कूल यूनिवर्सल सीनियर सेकेंडरी स्कूल में उत्सह का माहौल। झज्जर के गांव गोरिया की बेटी और अंतरराष्ट्रीय शूटर मनु भाकर ने यूथ ओलंपिक गेम्स में वुमेन कैटेगरी के 10 मीटर एयर पिस्टल इवेंट में गोल्ड मेडल हासिल किया है। यह यूथ ओलम्पिक गेम्स के इतिहास में शूटिंग में भारत का पहला गोल्ड मेडल है। मनु 236.5 के स्कोर के साथ पहले स्थान पर रही। मनु क्वालीफाइंग राउंड में भी 576 के स्कोर के साथ टॉप पर रही थी। मनु ने 2018 गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ गेम्स में भी स्वर्ण पदक हासिल किया था। हालांकि वे एशियन गेम्स में मेडल नहीं जीत सकी थी। वर्ल्ड कप के इंडिविजुअल और टीम इवेंट में भी मनु ने दो गोल्ड मेडल जीते थे। मनु का यह इस साल का छटा स्वर्ण पदक है और वह अब तक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर 20 से ज्यादा पदक हासिल कर चुकी है। हम आपको बता दें कि मनु भाकर झज्जर के गोरिया गांव की रहने वाली हैं और गांव के ही यूनिवर्सल सीनियर सेकेंडरी स्कूल में शिक्षा ग्रहण करती हैं। मनु भाकर का कहना है स्वर्ण पदक जीतना उनका सपना साकार होने जैसा है। उन्होंने पदक जीतने पर खुशी जाहिर करते हुए अपने माता-पिता, कोच और फैंस का धन्यवाद किया है। वहीं मनु भाकर के पिता रामकिशन भाकर भी बेटी की उपलब्धि से बेहद खुश हैं। उन्हें अपनी बेटी पर गर्व है। रामकिशन भाकर ने उम्मीद जताई कि उनकी बेटी आगे भी देश का नाम है ऐसे ही रोशन करती रहेगी।

Share This Post

Post Comment