सिरदर्द से पीड़ित नाबालिग किशोरी को गर्भवती बताने वाली नर्स के निलंबन की मांग

जोधपुर, मोती सिंह : कस्बे के मोयला कुम्हारों के बास की एक 15 वर्षीय लड़की के सिर में दर्द होने पर गाँव के सरकारी अस्पताल लेकर गए परिजनों के तब होश उड़ गए जब उनकी बच्ची को वहाँ कार्यरत एएनएम नर्स शारदा चौधरी ने प्रेग्नेंट बता दिया व गर्भ गिराने व उसके खर्च के नाम पर 4500 रु की रिश्वत की मांग की परिजनों को विश्वास नही होने पर परिजनों ने जोधपुर लेजाकर जांच करवाई तो नॉर्मल रिपोर्ट आई फिर परिजन वापस हॉस्पिटल पहुच नर्स के खिलाफ हंगामा किया बाद में सीएमएच्ओ के आने व नर्स के खिलाफ कार्यवाही करने की बात कहने पर परिजन वहाँ से चले गए तथा जोधपुर जिला कलक्टर से मिल कर ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में परिजनों ने बताया कि इस घटना के बाद उनकी बेटी सदमे में है और मानसिक रूप से बीमार हो गई है तथा गुमसुम है। मामले की गंभीरता को देखते हुए जिला प्रशासन तुरंत हरकत में आया और अतरिक्त जिला कलेक्टर विजय नाहटा ने सीएमएचओ को फोन कर तुरंत कार्यवाही करने के निर्देश दिए। ज्ञात रहे इसी नर्स को कुछ समय पूर्व चिकित्सा विभाग ने रिश्वत लेने व सरकारी एम्बुलेंस 104 को निजी उपयोग लेने व किराया वसूलने के आरोप में निलम्बित किया उसके बाद नर्स शारदा अभी 5 दिन पहले ही वापस कोर्ट से स्टे लेकर वापस तिंवरी अस्पताल में लगी है इसके खिलाफ स्टाफ द्वारा भी कई बार शिकायत की गई है उलेखनीय है कि 28 अगस्त को सिरदर्द होने पर किशोरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में इलाज करवाने आई थी। किशोरी के परिजनों का आरोप है कि इस दौरान नर्स शारदा ने उसे गर्भवती बताकर गर्भ गिराने के बदले पैसों की मांग की। परिजनों ने किशोरी को जोधपुर ले जाकर जांच करवाई तो गर्भवती होने की बात झूठी निकली।

Share This Post

Post Comment