यू.पी. के गोंडा जिला के कप्तान व कोतवाल की वजह से मिला एक वृद्ध व्यक्ति को न्याय

गोंडा, शैलेन्द्र मिश्रा : मामला कुछ इस प्रकार का है कि यूपी में गोंडा जिले के कोतवाली कर्नेलगंज क्षेत्र में एक छोटा सा गांव है दर्शन तिवारी पूर्व वहां एक 80 वर्षीय बुजुर्ग रहते है जिनका नाम मेवाराम तिवारी है उनके संतान में केवल एक ही कन्या है जिसका विवाह हो चुका है और वो अपने ससुराल मे रहती है वह यदा कदा अपने वृध्द माता पिता से मिलने वा हाल चाल पूछने जाया करती है मेवाराम के अन्य कोई संतान ना होने के कारण वो अपनी चल अचल सारी सम्पत्ति अपनी पुत्री को देना चाहते है किन्तु मेवाराम जी के चचेरे भाई लोग जो काफी मात्रा मे दबंग, बदमाश वा बाहुबली लोग है वे लोग परिवार से व नाते रिश्तेदार से काफी मात्रा में दबंग है वे लोग मेवाराम को आए दिन गाली गलौंज दिया करते है और कभी कभी मार पीट पर भी आमादा हो जाया करते है वे लोग मेवाराम जी की सारी सम्पत्ति को जबरन दबंगई पूर्वाक हथिया लेना चाहते है वो लोग मेवाराम जी के ऊपर गोंडा जिले के दीवाने न्यायालय मे फर्जी दीवानी का मुकदमा 2009 में दायर करवा दिया है और उसमे 2013 में दीवानी न्यायालय द्वारा यथा स्थिति बनाये रखने का स्टे ऑर्डर भी ले आए है जबकि न्यायालय ने स्टे में साफ साफ लिखा हुआ है कि सभी पक्षकारों को सूचित किया जाता है कि सभी लोग अपनी अपनी जगह पर यथास्थिति बनाये रखे कोई नया निर्माण ना करे छप्पर का दुबारा छाजन किया जा सकता है ऐसे अवस्था मे मेवाराम जी ने न्यायालय के आदेश का पालन किया व करते आ रहे है किन्तु मेवाराम जी के विपक्षी लोग रामविलास तिवारी, कैलाशनाथ तिवारी, सांवल तिवारी आदि लोग अपने दबंगता पूर्वक आए दिन कोई ना कोई बखेड़ा खड़ा कर देते है और बार बार नयायालय के आदेश का उल्लंघन किया करते है और कोई ना कोई नया निर्माण कार्य चालू कर दिया करते है इतना ही नही वे रोज व रोज आए दिन इस बुजुर्ग को हैरान व परेशान किया करते है जब मुझे ये सारी बातें मालूम पड़ी तब मैंने इसी सब बात को जानकर व समझकर मैने एक दिन गोंडा जिले के एस.पी. साहब को फोन लगाकर बात की कि सर जी आप के राज में इस प्रकार एक बुजुर्ग को हैरान व परेशान किया जा रहा है व न्यायालय के आदेश का उल्लंघन किया जा रहा है मेवाराम जी के विपक्षी लोग जबरन मिट्टी पटाइ का काम कर रहे है तो इसके ऊपर आप क्या एक्शन लेंगे उन्होंने मेरी सारी बातों को काफी ध्यानपूर्वक सुनकर समझकर तुरंत अपने कोतवाली कर्नेलगंज के कोतवाल श्री श्रीवास्तव जी का नंबर दिया और कहा कि आप अपनी सारी समस्या उन्हें बताऐ आप का तुरंत कार्य होगा और मैं भी कह देता हूं मैंने कोतवाल जी को फोन लगा कर सारा वाक्या बताया उन्होंने तुरंत कार्यवाही आरम्भ करते हुए मिट्टी पटाइ के कार्य को रूकवा दिया और मेवाराम जी को न्याय दिलवाया इस पर मुझे बड़ी खुशी व संतुष्टी हुई की वह इसे कहते है ओनेस्ट ऑफिसर जिन्होंने एक पल की देर ना करते हुए बिना समय गंवाए तुरंत कार्यवाही की मैं ऐसे ऑफिसरों को और ऐसे ईमानदार, कर्मनिष्ठ पुलिस महकमे को सलाम करता हूं वा उनकी कद्र करता हूं गर्व करता हूं कि आज भी न्याय ऐसे ऑफिसरों की वजह से मिल सकता है सिर्फ भरोसा रखो मैं गोंडा जिले के कप्तान साहब से व कोतवाल साहब से अपने इस न्यूजपेपर के माध्यम से एक अनुरोध करना चाहूंगा की सर जी ऐसे लोगो से सारा गांव व सारा समाज परेशान है पता नहीं कितने मुकदमे कितनी शिकायतें इन लोगों के खिलाफ चौकी मे आती रहती है आए दिन ये लोग कोतवाली व चौकी पर बैठे ही रहते है इसीलिए आपसे एक और विनती है कि इन लोगों के मुकदमो या शिकायतों को ध्यान में रखते हुए इनके ऊपर यथा योग्य कार्यवाही करे ताकि ये लोग और लोगो को परेशान व हैरान ना कर सके और सही सजा पाए ताकि इनको देख कर दूसरे लोगों में भी न्याय, पुलिस, प्रशासन का भय बना रहे और ये बात लोगों के समझ में आ जाए कि जिस दिन भी प्रशासन जगेगा उस दिन हालत खराब कर देगा और लोगो के अंदर भी न्याय मांगने व उस पर भरोसा कायम रहे।

Share This Post

Post Comment