अस्पतालों में दवाओं की कमी पर नाराज हुए आयुक्त ने एडी हेल्थ को लगाई फटकार

888-

गोंडा, श्याम बाबू : अस्पतालों में दवाओं की कमी पर नाराज हुए आयुक्त ने एडी हेल्थ को लगाई फटकार, दवाओं व आर्डर व सूची सहित किया तलब। विकास कार्यों की मण्डलीय समीक्षा में आयुक्त ने धीमी प्रगति पर कई विभागीय अधिकारियों को लगाई फटकार, 30 जून तक मिली मोहलत विकास कार्यों में मानकों की अनदेखी कतई बर्दाश्त नहीं-आयुक्त गोंडा विकास कार्यों में मानकों की अनदेखी कतई बर्दाश्त नहीं की जाएगी। सभी कार्यदाई संस्थाओं के अधिकारी विकास कार्यों की स्वयं मानीटरिंग करें तथा तय समय सीमा में कार्य पूर्ण कराएं अन्यथा कठारे कार्यवाही की जाएगी। यह चेतावनी देवीपाटन मण्डल के आयुक्त सुधेश कुमार ओझा ने आयुक्त सभागार में आयोजित विकास कार्यों की मण्डलीय समीक्षा में दी है। विकास कार्यों की मण्डलीय समीक्षा में समीक्षा में ज्ञात हुआ कि विकास कार्यों की स्टेट रैंकिंग में देवीपाटन मण्डल प्रदेश में नौवें स्थान पर है जिसमें जनपद गोंडा को 57, बहराइच को 21 श्रावस्ती को 50 तथा बलरामपुर को 44वां स्थान प्राप्त हुआ है। आयुक्त ने जिलाधिकारियों की शिकायत का संज्ञान लेते हुए मण्डल के अस्पतालों में दवाओं की उपलब्धता न होने पर देवीपाटन मण्डल के अपर निदेशक स्वास्थ्य डाॅ. रतन कुमार को कड़ी फटकार लगाते हुए दवाओं के क्रय की आर्डर व सूची तलब की है। इसके अलावा मात्र छः मिनट में एम्बुलेन्स के पहुंचने का फर्जी आंकड़ा देने पर भी फटकार लगाई है तथा एम्बुलेन्स को जिला प्रशासन द्वारा चिन्हित स्थलों पर खड़ी करने के निर्देश दिए हैं। लोक निर्माण विभाग द्वारा कई जिलो में मानक विहीन सड़के बनाने की शिकायत पर आयुक्त ने अधीक्षण अभियन्ता को मीटिंग में ही फटकार लगाते हुए पन्द्रह दिनों की मोहलत देते हुए सुधार करने की चेतावनी दी है। एनएचएम की समीक्षा में जनपद के चारों जिले व्यय के मामले में फिसड्डी पाए गए तथा टीकाकरण का डाटा सही नहीं पाया गया। आयुक्त ने एडी हेल्थ को 30 जून की मोहलत देते हुए सभी चीजें दुरूस्त करा देने के निर्देश दिए हैं। पेंशन योजनाओं की समीखा में सभी जिले डी श्रेणी, मनरेगा में बहराइच को छोड़कर सभी जिले बी श्रेणी, मुक्ति व पेयाजल में गोंडा डी श्रेणी में, नई सड़कों के निर्माण में सभी जिले डी श्रेणी, प्राइमरी स्कूलों में पाठ्य पुस्तकें वितरित करने में श्रावस्ती व बलरामपुर डी श्रेणी में तथा कार्यक्रम विभाग द्वारा बच्चों का आधार कार्ड नामांकन में सभी जिले डी श्रेणी में पाए गए। आयुक्त ने सभी विभागों के अधिकारियों को सख्त चेतावनी देते हुए युद्धस्तर पर काम कराने के निर्देश दिए हैं। पेयजल योजनाओं की समीक्षा के दौरान अधीक्षण अभियन्ता जल निगम आयुक्त के सवालों का जवाब ही नहीं दे पाए। ज्ञात हुआ कि गोंडा में 20 परियोजनाओं में से एक भी परियोजना अभी तक चालू नहीं हो पाई है। आयुक्त ने एसई जल निगम को मीटिंग में ही चेतावनी देते हुए होमवर्क करके मीटिंग में आने की नसीहत दी। सीउीओ गोंडा द्वारा बताया गया कि 20 मे 9 परियोजनाओं विद्युत कनेक्शन न मिल पाने के कारण चालू नहीं हो सकीं है जबकि विद्युत कनेक्शन हेतु विभाग में पैसा आदि जमा करा दिया गया था। आयुक्त चीफ इन्जीनियर विद्युत से मामले में जवाब मांगा हे ओर 30 जून तक विद्युत कनेक्शन न होने के कारण रूकी हुई सभी परियोजनाओं को चालू करा देने की चेतावनी दी है। जरवल-से गोंडा रोड, गोंडा शहर में सड़क निर्माण कार्य की धीमी प्रगति पर तथा गोंडा-बलरामपुर रोड पर एक लेन के निर्माण कार्य 15 जून तक पूरा कराने की डेड लाइन बीत जाने के बाद भी कार्य पूरा न होने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए आयुक्त ने अधीक्षण अभियन्ता पीडब्लूडी को फटकार लगाई है और 30 जून तक कार्य पूरा कराने के निर्देश दिए हैं। डीएम बहराइच द्वारा अवगत कराया गया कि सड़कों के किनारे पीडब्लूडी के ठेकेदारों गहरे गड्ढे खोद दिए जाने के कारण आए दिन सड़क दुर्घटनाएं हो रही हैं। आयुक्त मामले को बेहद गम्भीरता से लेते हुए सड़कों के किनारे गहरे गड्डे न खोदने के आदेश दिए हैं। नई सड़कों के निर्माण की समीक्षा के दौरान ज्ञात हुआ कि मण्डल की 272 नई सड़कों के सापेक्ष मात्र 26 सड़कों का कार्य प्रारम्भ होने पर नारजगी व्यक्त करते हुए तत्काल काम शुरू कराने के निर्देश दिए हैं। विद्युत विभाग की समीक्षा के दौरान आयुक्त विद्युत विभाग के अधिकारियों द्वारा फोन न उठाने की शिकायत का संज्ञान लेते हुए सख्त चेतावनी दी कि फोन न उठाने वाले अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही की जाए और जनता की शिकायतों का समाधान किया जाए। इसके अलावा आयुक्त ने प्रधानमंत्री आवास, मनरेगा, शादी अनुदान, स्वच्छ भारत मिशन, पेयजल योजनाओं, दीन दयाल ग्राम ज्योति योजना, सेतु निर्माण, आंगनबाड़ी केन्द्रों का निर्माण, बेसिक शिक्षा, लाभार्थीपरक योजना, खाद्य सुरक्षा, अपशिष्ट प्रबन्धन, पारदर्शी किसान योजना, फसली ऋण मोचन, प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना, कार्यक्रम विभाग, ग्राम स्वास्थ्य पोषण दिवस, कुपोषण मुक्ति, ई-टेन्डरिंग, अवैध खनन, नहरो की सफाई  सहित अन्य विभागों की जनपदवार समीक्षा की। बैठक में डीएम गोंडा  कैप्टेन प्रभांशु श्रीवास्तव, डीएम बहराइच माला श्रीवास्तव, डीएम श्रावस्ती दीपक मीणा, डीएम बलरामपुर कृष्णा करूणेश, संयुक्त विकास आयुक्त देवीपाटन मण्डल बी.के. पाठक, सीडीओ गोंडा अशोक कुमार, सीडीओ बहराइच, बलरामपुर व श्रावस्ती, अपर निदेशक स्वास्थ देवीपाटन मण्डल डाॅ. रतना कुमार, उपश्रमायुक्त देवीपाटन मण्डल शमीम अख्तर, उपनिदेशक समाज कल्याण, गन्ना उपायुक्त अमर सिंह, चीफ इन्जीनियर विद्युत देवीपाटन मण्डल, डीडी एग्रीकल्चार मुकुल तिवारी, डीपीओ जयदीप सिंह, सहित अन्य मण्डलीय अधिकारी उपस्थित रहे।

Share This Post

Post Comment