सुरक्षा को ताक पर रखकर की जा रही मनमानियां

मुंबई, सुनील राजभर : बॉम्बे डाईंग मिल, लोअर परेल के सामने बनी इमारत जैन बिल्डिंग एक बार फिर से खबरों में है। इस बार मामला ज्यादा पेचीदा हैं क्योंकि महानगर पालिका के सेक्शन 353-A का उल्लंघन करते हुए मकानदार अपना कब्जा जमाए हुए हैं। 30 मई को प्राप्त हुए एक नोटिस (CS- 810) के अनुसार मनपा ने सभी रहिवाशियों को मकान खाली करने का निर्देश जारी कर दिया है परंतु अभी तक इस बाबत कोई ठोस कार्यवाही नहीं हुई है। सत्य की नगर रहीवाशी संघ ने महानगर पालिका में इस बात की शिकायत दर्ज करायी थी कि जैन बिल्डिंग ने मनपा द्वारी जारी सुरक्षा नियमावली को ताक पर रख के इमारत में किचन का निर्माण किया हैं। मनपा द्वारा की गई जाँच में यह बात साफ उभर कर सामने आयी कि आरोप सत्य है और मनपा ने तुरंत ही इस विषय मे कार्यवाही करने के आदेश जारी कर दिये। हाल ही में बिल्डिंग से सटे कमला मिल्स में आग से हुए हादसों ने पूरे मुंबई शहर को दहला के रख दिया था ऐसे में सवाल यह उठता है कि क्या रसूखदार अपने पैसे और पावर का रोब दिखाकर जानबूझ कर इस तरह की हरकतें करते है। बिना अनुमति के इस तरह के निर्माणकार्य कब फिर से एक हादसे को जन्म दे देंगे यह कोई नही कह सकता। सत्य की नगर रहिवाशियों की माने तो बिल्डर्स अपने रसूख के दम पर इस तरह के अवैध निर्माण कार्य कर रहा है। मनपा के निर्देश आ जाने के बाद भी आखिर कौन से ऐसी ताकत है जो कार्यवाही को रोके हुए है। रहिवाशियों ने समय भास्कर से बातचीत करने के दौरान कहा कि अगर शीघ्र ही कोई ठोस कदम मनपा के द्वारा नही उठाये गए तो वो कोर्ट का दरवाजा खटखटाएंगे।

Share This Post

Post Comment