जोधपुर बी रोड पर डिपार्टमेन्ट स्टोर की बिल्डिंग गिरी 10-15 लोगो के दबे होने की आशंका

जोधपुर, राकेश गहलोट : बी रोड पर अभी डिपार्टमेन्ट स्टोर की बिल्डिंग गिरी 10-15 लोगो के दबे होने की आशंका  सरदार पूरा जोधपुर में बड़ा हादसा गुलाब हलवा के पास की पूरी 9 मंजिली बिल्डिंग जमीदोज 12 से 15 आदमियों के दबने की आशंका हादसे का कारण पड़ोस के मकान हेतु नीव की खुदाई का कार्य प्रगति पर होना। शहर के सरदारपुरा बी रोड पर मंगलवार सुबह एक तीन मंजिला बिल्डिंग भरभरा कर ढह गई। इस बिल्डिंग के पड़ोस में एक मकान की नींव खोदे जाने के दौरान यह हादसा हो गया। इस बिल्डिंग के मलबे में कई लोगों के दबे होने की आशंका निर्मूल साबित हुई। जिला प्रशासन ने त्वरित गति से राहत कार्य चला तीन जनों को सकुशल बाहर निकाल लिया। इसके बाद कुछ और लोगों के दबे होने की आशंका में सारा मलबा हटाया गया, लेकिन वहां कोई नहीं मिला। बिल्डिंग के नीचे के हिस्से की दुकान पर खरीददारी करने आई मां-बेटी की तलाश में अभियान शाम तक चला। लेकिन वे हादसे से एन पहले दुकान से बाहर निकल गई।  सरदारपुरा बी रोड स्थित 9 टू 9 किराणा स्टोर के निकट एक अन्य मकान के निर्माण के लिए नींव खोदी जा रही थी। नींव खुदाई के दौरान यकायक किराणा स्टोर की बिल्डिंग ढह गई। इस दुकान के ऊपर बना मकान भी ढह गया। जोधपुर पत्थर से बनी इस बिल्डिंग के ढह जाने से कोहराम मच गया। ढहने से बच गए बिल्डिंग के ऊपरी हिस्से से सकुशल बाहर निकली एक महिला ने बताया कि दुकान में पांच जने थे। शुरू में ऐसी आशंका जताई जा रही थी कि करीब एक दर्जन लोग मलबे में दबे हुए है। इस बिल्डिंग से सटे भूखंड पर निर्माण कार्य के लिए कल रात ही जमीन की खुदाई की गई थी। इस खुदाई में बिल्डिंग की नींव कमजोर हो गई और आज दोपहर यह भरभरा कर नीचे गिर पड़ी। जोरदार धमाके के साथ पूरी बिल्डिंग ढह जाने से क्षेत्र में कोहराम मच गया। लोग मदद  के लिए मौके पर पहुंचे भारी भीड़ के बीच लोगों ने स्वयं के स्तर पर बचाव कार्य शुरू किया। थोड़ी देर में पुलिस व प्रशासन भी मौके पर पहुंच गए। मौके पर भारी भीड़ के बीच जारी राहत कार्य में पहली राहत भरी खबर आई। जब बचावकर्मी मलबे में दबे एक व्यक्ति संजय कांकरिया तक पहुंच गए और उसे सकुशल बाहर ले आए। थोड़ी देर में उसके पास ही फंसे एक अन्य व्यक्ति को भी बाहर निकाल लिया गया। संजय ने बाहर आते ही बचाव टीम को बताया कि बिल्डिंग में किस स्थान पर अन्य लोग फंसे हुए है। इसके आधार पर राहत कार्य को आगे बढ़ा एक अन्य व्यक्ति को भी बाहर निकाल लिया गया। थोड़ी देर बाद मलबे में दबे एक बच्चे को भी सकुशल बाहर निकाल लिया गया। अब मलबे में एक महिला के दबे होने की आशंका जताई जा रही है।  दुकान पर लगे कैमरे को देख प्रशासन ने शाम तक राहत कार्य चलाया। इस कैमरे में साफ नजर आ रहा है कि एक महिला अपनी बेटी के साथ खरीददारी कर रही है। मां-बेटी हादसे से पांच मिनट पहले तक दुकान के भीतर थी। इस कारण प्रशासन ने माना कि कहीं ये दोनों भी मलबे में दब गई। ऐसे में शाम तक राहत कार्य चला इनकी तलाश की गई। इसके बावजूद दोनों का पता नहीं चल पाया। बाद में माना गया कि हादसे से एन पहले ये मां-बेटी दुकान छोड़ कर निकल गई। मां-बेटी के सकुशल रवाना होने की पुष्टि दुकान से बचाए गए एक कर्मचारी ने भी की। हाथों से हटा रहे है पत्थर : मलबे का ढेर बनी दो मंजिला बिल्डिंग जोधपुरी पत्थरों से बनी हुई थी। ऐसे में पत्थरों को जेसीबी की सहायता से हटाने के बजाय बड़ी संख्या में राहतकर्मी हाथों से हटा रहे है, ताकि पत्थरों के नीचे दबे लोगों को कोई नुकसान नहीं पहुंचे। प्रशासन ने दिखाई सक्रियता :  हादसे की सूचना मिलते ही जिला कलक्टर, पुलिस कमिश्नर, महापौर सहित सभी आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए। सभी ने मिलकर बचाव कार्य को त्वरित गति के साथ संचालित किया। यही कारण रहा कि इतने बड़े हादसे के बावजूद तीन जनों को जिंदा निकाला जा सका। प्रशासन ने मौके पर राहत कार्य में तेजी लाने के साथ एक साथ कई एम्बुलैंस को तैयार रखा। ताकि घायलों को बाहर निकालते ही तुरंत अस्पताल पहुंचाया जा सके।

Share This Post

Post Comment