संस्कृत बचाओ संघर्ष समिति ने सौंपा ज्ञापन

जयपुर, विकास शर्मा : राजस्थान शिक्षक संघ (सियाराम) द्वारा चलाए जा रहे संस्कृत बचाओ आंदोलन के तहत, संस्कृत बचाओ संघर्ष समिति के संयोजक श्री सियाराम शर्मा के नेतृत्व में एक शिष्टमंडल, भाजपा के प्रदेश संगठन महामंत्री श्री चंद्रशेखर ओर मुख्यमंत्री के संयुकत सचिव श्री प्रकाश चंद्र शर्मा से मिले और संस्कृत शिक्षा विभाग की समस्याओं का सात सूत्रीय ज्ञापन सौंपा। इसके अतिरिक्त श्री राजेंद्र सिंह राठौड, अध्यक्ष मंत्रीमंडलीय उपसमिति, श्री युनुस खान सदस्य मंत्रीमंडलीय उपसमिति ओर श्री अजय सिंह किलक सदस्य मंत्रीमंडलीय उपसमिति एवं संस्कृत शिक्षामंत्री श्रीमती किरण माहेश्वरी के आवास पर उनके पी.ए. को ज्ञापन सौंपा गया। संघर्ष समिति सचिव चंद्र प्रकाश शर्मा ने बताया कि ज्ञापन की प्रमुख मांगे तथा दिनांक 28 मार्च 2018 संस्कृत शिक्षा सेवा नियम संशोधन को वापिस लिये जाने, संस्कृत के विधार्थियों को अधिक अवसर प्रदान करने के लिए राजस्थान लोक सेवा आयोग व राजस्थान अधीनस्थ कर्मचारी चयन बोर्ड से आयोजित समस्त प्रतियोगी परीक्षाओं में संस्कृत भाषा के 20 प्रतिशत अंक निर्धारित किये जाने, संस्कृत विधालयों में शिक्षण एवं परीक्षा का माध्यम संस्कृत भाषा किये जाने, संस्कृत से भिन्न विषयों के शिक्षकों के हितों को ध्यान में रखते पदोन्नति हेतु अलग से कैडर तैयार किये जाने, संस्कृत शिक्षा का प्रशासनिक ढांचा, पद-नाम, सामान्य शिक्षा के अनुरूप किये जाने, आचार्य महाविधालयों में प्रोफेसर के स्वीकृत पदों को सरकार द्वार घोषित डाईग कैडर को समाप्त कर पूर्व में समाप्त किए पदों को पुनर्जीवित किये जाने तथा प्रत्येक महाविधालयों में पुस्तकालय अघ्यक्ष एवं शारीरिक शिक्षकों के पद स्वीकृत कर पदस्थापन किये जाने, संस्कृत शिक्षा विभाग के कॉलेज शिक्षा सेवा नियम शीघ्र जारी करते हुए नियमानुसार विभागीय प्रशासनिक एवं शैक्षणिक पदों को शीघ्र भरे जाने आदि है। संघर्ष समिति के सह संयोजक श्री जगेश्वर शर्मा ने बताया कि आंदोलन के दूसरे चरण में 25 अप्रैल से 6 मई 2018 तक सांसद, विधायक और जिला प्रमुखों को ज्ञापन सौंपकर संस्कृत के संरक्षण एवं संवर्धन के लिए समर्थन मांगा जायेगा। आंदोलन के तीसरे चरण में 7 मई 2018 को जिला कलेक्टरों के कार्यालय पर धरना एवं प्रदर्शन कर उनके माध्यम से माननीय मुख्यमंत्री के ना ज्ञापन सौंपा जायेगा। शिष्ट मंडल में मार्गदर्शक श्री रामकृष्ण शास्त्री, प्रदेश संगठन मंत्री भारत संस्कृत परिषद् संयोजक-सियाराम शर्मा, सह संयोजक-जगेश्वर शर्मा, सचिव-चंद्रप्रकाश शर्मा, कोषाघ्यक्ष-योगेश भारद्धाज सदस्य-महेश शर्मा, अमित योगी, रामवतार बागड़ा, भूपेंद्र सोनी आदि सम्मिलित थे।

 

Share This Post

Post Comment