कमजोर मांग से सोयाबीन सोया तेल एवं सरसों…

इंदौर, गौरव मालू : अक्षय तृतीया का दिन होने से कल के बाजारों में सोया तेल में मांग नहीं के समान रही। वायदों में तेल, सोयाबीन एवं सरसो मंदी में चल रहे थे। उप्र वाले दक्षिण भारत में रायड़ा काफी सस्ते भाव पर बेच रहे हैं, जिससे मप्र का कामकाज ठप पड़ गया है। रायड़ा-सरसो से लेवालों ने हाथ खींच लिए हैं, क्योंकि सरसों वायदों में आए दिन गिरावट आ रही है। प्लांटों ने सोया तेल के भाव 765 रुपए के खोले थे, कामकाज नहीं के समान रहा। श्रमिकों की हड़ताल अर्जेंटीना के प्लांटों में श्रमिकों ने वेतन वृद्धि की मांग को लेकर हड़ताल कर दी है। यूनियन का कहना है कि अगर उनकी मांगे नहीं मानी गई तो पूरे देश में हड़ताल की जाएगी, जिससे ऑयल सीड और अन्य उत्पादनों पर प्रभाव पड़ेगा। वर्तमान में बंदरगाह पर 3 जहाज सोया डीओसी के लदान के लिए खड़े हैं। सरसों में मांग कम–गर्मी का मौसम होने आपूर्ति बढ़ने और बाजारों में मांग कमजोर रहने से सरसों तेल के भावों में लगभग स्थिरता आ गई है। हरियाणा और उप्र की मंडियों में लेवाली कम है। बिहार और बंगाल तरफ की मांग कमजोर होने से राजस्थान की मंडियों में सरसों तेल के भाव घट गए। पिछले माह हुए रबी सम्मेलन में सरसों का उत्पादन 70.50 लाख टन होने की संभावना व्यक्त की गई थी।

Share This Post

Post Comment