पूर्व मुख्यमंत्री चव्‍हाण बोले- अकेले चुनाव लड़े तो हार का खतरा, कांग्रेस-एनसीपी को आना होगा एक साथ

नजीर मुलाणी, मुंबई : मुंबई: महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने राज्य में (एनसीपी) के बीच गठबंधन की जरूरत पर जोर देते हुए कहा है कि अगर दोनों दल अलग-अलग चुनाव लड़े तो हारने और अप्रासंगिक होने का खतरा है, इसलिए दोनों दलों के नेतृत्व को त्याग करना होगा ताकि भाजपा को रोका जा सके. भाजपा और शिवसेना गठबंधन में कड़वाहट के सवाल पर चव्हाण ने कहा कि यह सिर्फ नाटक है. क्योंकि भाजपा शिवसेना का साथ नहीं छोड़ेगी और चुनाव के समय किसी न किसी तरह उसे साथ ले लेगी ताकि हिंदुत्ववादी वोटों के बंटवारे को रोका जा सके. गौरतलब है कि साल 2014 के महाराष्ट्र विधानसभा के चुनाव में दोनों पार्टियां अलग लड़ी थीं और इसी के साथ दोनों का 15 साल पुराना तालमेल टूट गया था. कांग्रेस ने महाधिवेशन में शनिचर को राजनीतिक प्रस्ताव पारित किया जिसमें समान विचारधारा वाली पार्टियों से गठबंधन की पैरवी की गई है.
दोनों के साथ आए बिना काम नहीं चलेगा,
चव्‍हाण ने यह भी कहा कि किसानों और बेरोजगारी के मुद्दों पर भाजपा सरकार को घेरना होगा. राज्य में कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकॉपा) के बीच गठबंधन पर उन्होंने कहा कि सीटों के तालमेल को लेकर दोनों पार्टियों के बीच अड़चनें हैं, लेकिन उनको दूर करने के लिए दोनों के नेतृत्व को परिपक्वता दिखानी होगी. कांग्रेस के 84वें महाधिवेशन से इतर पार्टी के वरिष्ठ नेता चव्हाण ने कहा कि दोनों (कांग्रेस और राकांपा) के साथ आए बिना काम नहीं चलेगा. अगर अलग लड़ेंगे तो भाजपा शायद आगे निकल जाएगी. क्योंकि वह हिंदुत्व की राजनीति कर रही है. और कोई विकल्‍प नहीं, उन्होंने कहा कि वोटों का बंटवारा रोकने के लिए समान विचार वाले दलों को साथ आना होगा. महाराष्ट्र में दोनों के सामने कोई विकल्प नहीं है. दोनों को साथ आना होगा. साथ नहीं आए तो दोनों हार जाएंगे और अप्रासंगिक हो जाएंगे. सबसे ज्यादा छोटी पार्टियां अप्रासंगिक हो जाएंगी. पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि जब चुनाव होंगे तो किस तरह से सीटों का बंटवारा होगा, इसको लेकर अड़चने हैं, यह बात वह मानते हैं. दोनों तरफ के नेतृत्व को परिपक्वता दिखानी होगी. उन्होंने यह भी कहा कि सीटों के तालमेल के संदर्भ में दोनों दलों को त्याग करना चाहिए.

Share This Post

Post Comment