अवैध खनन को लेकर चल रहा  सियासी खेल

रिपोर्टर- गुरसेवक गुरी  कुराली,मोहाली  पंजाब – माजरी के गांव मियापुर चंगर,अभीपुर और कुबाहेड़ी में प्रशासन की मिलीभगत से अवैध माइनिंग आज भी जारी है। ये काला कारोबार दिन में और रात में सरेआम राजनीतिक लोगों की शह पर चल रहा है। जिला प्रशासन,माइनिंग विभाग और पुलिस की मिलीभगत से रात को अवैध माइनिंग धड़ल्ले से की जा रही है और प्रशासन के उच्च अधिकारी भी इस क्षेत्र में रात को जाने से कतराते है। जानकारी अनुसार बीते कुछ दिनों पहले डिप्टी कमिशनर के आदेश अनुसार ब्लाक माजरी क्षेत्र के गांवों में लगे सभी 29 क्रशर सील कर दिए गए थे, पर कुछ दिनों के बाद डिप्टी कमिशनर ने क्रशर मालिकों से अवैध माइनिंग न करने का एफडेविट लेकर उन पर अंधविश्वास कर क्रशरों की सीले खुलवा दी। जब क्रशरों की सील खोल दी गई तो क्रशर मालिकों द्वारा पुलिस और माइनिंग विभाग के अधिकारियों की मिलीभुगत से अवैधमाइनिंग शुरू कर दी। आज भी अगर कोई उच्च अधिकारी बिना यहाँ किसी को सूचित किये इस क्षेत्र में आता है तो उन्हें अवैध माइनिंग का काम चलता साफ दिरख़ जायेगा। क्रशर मालिकों द्वारा जहां अवैध माइनिंग करके शामलाते की जमीनों और बरसाती नदियों में 50 से 70 फीट गहरे गड्ढे डाल दिए गए हैं।वहीं अब इनके द्वारा गांव गोचर, मिर्जापुर और तारापुर आदि गांवों के नजदीक शिवालिक की पहाड़ियों को भीखोदना शुरू कर दिया है। इस तरह कर मालिक पैसे कमाने के लालच में कुदरती साधनों से दिन-प्रतिदिन छेड़छड़ कर रहे हैं और संबंधित अधिकारी बंद कमरों में बैठ अवैध माइनिंग रोकने के दावे करते रहते हैं। जानकारी अनुसार पुलिस के उच्च अधिकारियों ने इन मुलाजिमों के विरुद्ध कार्रवाई करने की बजाय मामला ही रफा-दफा कर दिया। क्षेत्र वासी सन्नी खिजराबाद,मनजोत कुबाहेड़ी,राणा ओमपाल, इकबाल सिंह ने पत्रकारों को बताया कि जिस समय जिला अफसर गुरप्रीत कौर सपरा द्वारा क्रशरों को सील किया था उनको बड़े खुशी हुई थी पर जब कुछ दिन बाद एफडेविट लेकर क्रशरों की सील खोल दी गयी थी तो उन्हें बड़ा दुःख हुए। इन्होंने कहा कि गांव खिजराबाद में लगभग 4 क्रशर है जो रात दिन क्रशर के आसपास अवैध माइनिंग करते हैं । इन क्रशरों के पास 50 फिट से गहरे गड्डे है। उस से बड़ा सबूत अत्रैध माइनिंग का कुछ और नहीं हो सकता। इन्होंने कहा कि जो भी अवैध माइनिंग करता है उस पर तुरंत मामला दर्ज किया जाना चाहिए। डिप्टये कमिशनर को खुद सप्ताह में एक बार आकर क्षेत्र में हो रही माइनिंग और क्रशरों पर पड़े कच्चे माल के बिलों की जाँच करनी चाहिए।ret

Share This Post

Post Comment