आधार डाटा लीक का पर्दाफाश करने वाली महिला पत्रकार पर केस दर्ज

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः दिल्ली पुलिस ने आधार से जुड़ा डाटा लीक करने का पर्दाफाश करने वाली एक अंग्रेजी दैनिक की महिला रिपोर्टर और अखबार के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। महिला रिपोर्टर ने खबर में मात्र 500 रुपये में आधार से जुड़ी जानकारी मुहैया कराने का दावा किया था। इस संबंध में यूआइडीएआइ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने पुलिस में शिकायत की थी। जानकारी के मुताबिक, तीन जनवरी को चंडीगढ़ से प्रकाशित एक अंग्रेजी दैनिक अखबार की महिला रिपोर्टर ने आधार डाटा लीक संबंधी खबर लिखी थी। स्टिंग के आधार पर पत्रकार ने दावा किया था कि मात्र 500 रुपये में किसी के भी आधार का निजी डाटा प्राप्त किया जा सकता है। रिपोर्ट में 10 लाख लोगों के आधार डाटा उपलब्ध होने की बात कही गई थी। पत्रकार ने व्हाट्सएप के जरिये अनिल कुमार, सुनील कुमार और राज नामक व्यक्ति द्वारा आधार डाटा प्राप्त करने का दावा किया था। रिपोर्ट प्रकाशित होने के बाद यूआइडीएआइ के वरिष्ठ अधिकारी ने पांच जनवरी को दिल्ली पुलिस अपराध शाखा की साइबर सेल में शिकायत की थी। शिकायत में महिला पत्रकार, अखबार तथा डाटा मुहैया करवाने वाले तीन एजेंट के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने का अनुरोध किया गया था। यूआइडीएआइ अधिकारियों के मुताबिक, आधार की कोई भी जानकारी लीक नहीं हो सकती। ऐसा दावा कर रिपोर्टर ने आपराधिक साजिश की है। इसके बाद पुलिस ने धोखाधड़ी, आइटी एक्ट सहित अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है। वहीं एडिटर्स गिल्ड ने इस संबंध में सरकार से हस्तक्षेप का अनुरोध किया है। उसकी ओर से मामले की निष्पक्ष जांच की मांग की गई है। हरियाणा में फरीदाबाद स्थित आधार कार्ड एनरोलमेंट एजेंसी अलंकित असाइनमेंट लिमिटेड के हेड इशपाल सिंह पर लोगों के आधार कार्ड का डेटा लीक करने का आरोप लगा है। इस संबंध में एक स्टिंग ऑपरेशन का संज्ञान लेते हुए यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया के सहायक महानिदेशक अमित सिंघल की शिकायत पर आरोपी के खिलाफ सेंट्रल थाने में मुकदमा दर्ज हुआ है। पुलिस आरोपी की तलाश में जुट गई है।

 

Share This Post

Post Comment