जाम से जूझता हुआ चौमू शहर

जयपुर, राजस्थान/विकास शर्माः चौमू शहर इन दिनों में जाम की स्थिति से आए दिन जूझता नजर आता है। शहर के चौराहों से जिधर आंखें घुमाओ गाडि़यां जाम में फंसी नजर आती है।वहीं दूसरी ओर शहर के इस जाम को लेकर कारणों का पता लगाया जावें तो पुलिस प्रशासन ट्राफिक व्यवस्था सुचारू रूप से कर के भी व्यवस्था नहीं बैठा पा रही है। वहीं देखा जावें तो शहर में जाम उसी दिन बेकाबू रहता है जिस दिन मोरीजा रोड पर बावला बाजार खुलता है। इस बाजार के चलते पुलिस प्रशासन हताश नजर आने लगता है। वहीं थाना चौराहे पर प्रशासन को रेड लाइट व सफेद पटी जैसे उपाय करने होंगे, जो कि इस जाम को दुर करने में सहायक साबित होगे। लेकिन जब तक शहर के बस स्टैंड से बावला बाजार दूर नहीं होगा तब तक शहरवासियों के साथ साथ पुलिस प्रशासन को इस जाम से जूझना पड़ेगा। पालिका प्रशासन के द्वारा उक्त जगह पर लगने वाला यह बाजार अब प्रशासन के लिए भी घातक बनता जा रहा है। चूंकि इस बाजार में एक ही समय में हजारों की संख्या में भीड़ मौजूद रहती है जिनमें अधिकांश ग्रामीण क्षेत्रों की महिलाएं मौजूद रहती है। और ऐसे में हल्की सी वजह से अगर भगदड़ मची तो एक बडे हादसे का शहर में आगाज हो सकता है। आज शहर के इतने पोश इलाके में बिना सुरक्षा उपकरणों के पालिका इतना बड़ा बाजार लगवा कर पुलिस प्रशासन के लिए सिरदर्द और शहर के लिए हादसे का आगाज कर रही है।उपर दी गई फोटो को देखकर आप खुद अंदाजा लगा सकते हैं कि आखिर जाम की स्थिति का मुख्य कारण क्या हो सकता है। एक फोटो आपके सामने वो है जिसमें बावला बाजार नहीं लगा हुआ है और सडक पर वाहन सुगमता से निकल रहे हैं वहीं दूसरी फोटो उस समय की है जिस दिन बावला बाजार लगता है जिसमें सडको पर चल रहे वाहनों के साथ साथ पैदल यात्री भी जूझ रहे हैं। चंद प्रलोभन के चक्कर में आज पालिका अध्यक्ष ने बिना सोचे समझे यह फैसला लेकर शहर की स्थिति को तो बिगाड़ दिया है और अगर समय रहते पुलिस प्रशासन  ने बावला बाजार को लेकर कोई ठोस कदम नहीं उठाया तो कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है।

Share This Post

Post Comment