अप्रैल में ग्रेटर नोएडा तक दौड़ने लगेगी मेट्रो

गौतमबुद्धनगर, उत्तर प्रदेश/नगर सवांददाताः नोएडा-ग्रेटर नोएडा मेट्रो रूट पर मंगलवार को एक्वा मेट्रो ने दो बाधाओं को दूर किया। पहली बाधा जमीन से 21 मीटर ऊंचे एलिवेटेड पर चलना और दूसरा गहरे मोड़ पर चलना। सफलता मिलने पर नोएडा मेट्रो रेल कारपोरेशन (एनएमआरसी) व दिल्ली मेट्रो रेल कारपोरेशन (डीएमआरसी) अधिकारियों ने खुशी जाहिर की। दरअसल, मंगलवार को एक्वा लाइन का ग्रेटर नोएडा स्थित डिपो पर टेस्ट ड्राइव किया गया। अधिकारियों ने भी मेट्रो की सवारी की। इस दौरान मेट्रो ट्रेन ने एक किलोमीटर का सफर तय किया। इसमे दो बड़ी चुनौतियां थीं। पहली 10 मीटर एलिवेटेड ट्रैक से मेट्रो का संचालन कर उसे 21 मीटर की ऊंचाई पर बने एलिवेटेड ट्रैक तक ले जाना था। उस दौरान ट्रेन की स्पीड क्या होगी साथ ही कोई तकनीकी कमी न हो। लिहाजा टेस्ट ड्राइव के दौरान मेट्रो संचालन बिल्कुल सही रहा। कंट्रोल सिस्टम ने भी पूरी तरह से काम किया। वहीं, दूसरी बाधा ट्रैक पर बने मोड़ हैं। पूरा ट्रैक करीब 29.7 किलोमीटर लबा है। पूरे रूट पर करीब 47 मोड़ हैं, लेकिन सबसे गहरा मोड़ परीचौक पर बना है। औपचारिक ट्रायल के दौरान मेट्रो ट्रेन यहां से गुजारी जाएगी। फिलहाल मंगलवार को ग्रेटर नोएडा डिपो से दूसरे स्टेशन तक बने मोड़ से मेट्रो को गुजारा गया। यहां भी तकनीकी रूप से कोई खामी नहीं देखी गई। नोएडा प्राधिकरण के अपर मुख्य कार्यपालक अधिकारी अटल कुमार राय ने बताया कि तकनीकी रूप से इन दोनों बिंदुओं पर मेट्रो ट्रेन के सचालन देखना काफी महत्वपूर्ण था। दरअसल, पूरे ट्रैक पर सबसे ऊंचा ट्रैक यही है। साथ ही पूरे ट्रैक पर कई मोड़ भी हैं। लिहाजा इन दोनों स्थानों पर मेट्रो का संचालन कर तकनीकी पक्ष की जांच की गई।

Share This Post

Post Comment