दिल्ली से लेकर पटना तक उड़ानों पर सफेद आतंक का कहर

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः कुछ दिन पहले पटना एयरपोर्ट पर जो हालात थे, उसकी चर्चा देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी हुई। मौसम की मार और क्षमता से ज्यादा यात्रियों की संख्या और इसके साथ ही सभी विमानन कंपनियों के तरह-तरह के लुभावने ऑफर से कुव्यस्था का शिकार हो रहा पटना एयरपोर्ट दर्द से कराह रहा है। जिस तरह बस टर्मिनल पर बस में चढ़ने की भीड़ लगी रहती है ठीक वैसी ही भीड़ पटना एयरपोर्ट में देखी गई।नवंबर के दूसरे सप्ताह में पटना एयरपोर्ट के फर्श पर लेटे यात्रियों की तस्वीरों ने खूब सुर्खियां बटोरी थीं। दावे किए गए थे कि यात्रियों को भविष्य में ऐसी दिक्कतें नहीं होंगी, लेकिन जयप्रकाश नारायण एयरपोर्ट की तस्वीर आज भी जस की तस है। सुबह कड़ाके की ठंड में यात्री एयरपोर्ट पहुंचे और ठिठुरते हुए अपने हवाई जहाज का इंतजार करते रह गए। लगभग ऐसा ही नजारा उत्तर भारत के दूसरे हवाईअड्डों पर भी देखा गया। इस सीजन के सबसे घने कोहरे के चलते दिल्ली में इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर दृश्यता घटकर 50 मीटर तक आ जाने के कारण 350 से अधिक विमानों की उड़ान सेवाएं प्रभावित हुईं। उनमें कुछ में देरी हुई, कुछ के मार्ग बदल दिये गये जबकि कुछ रद्द कर दी गयीं। दिल्ली से आने वाले विमान अधिक प्रभावित होने से लखनऊ के चौधरी चरण सिंह अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर यात्रियों की खासी अफरातफरी रही। टर्मिनल के भीतर दिन भर यात्रियों की अधिक भीड़ के कारण उनके बैठने के इंतजाम तक कम पड़ गए। एयर इंडिया, जेट एयरवेज, विस्तारा, गो और इंडिगो के विमान लखनऊ से भी देर से रवाना हुए। ऐसा ही कुछ हाल अमृतसर के श्री गुरु रामदास जी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट का रहा। राजासांसी पर जीरो विजिबिलटी के चलते दिल्ली से आने वाली 2 फ्लाइट को कैंसिल कर दिया गया। इन विमानों से दिल्ली जाने वाले यात्रियों को मंगलवार सुबह एयरपोर्ट पर भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा, क्योंकि गहरी धुंध के चलते कुछ एयरलाइंस के कर्मचारियों को भी अपने कार्यालय में पहुंचने में देरी हो गई। इसके अलावा मंगलवार को यहां पहुंचने वाली कई अन्य उड़ानें भी घंटों देरी से पहुंची। इससे पहले 29 दिसंबर को भी एयरपोर्ट पर इसी तरह के हालातों के चलते दिल्ली की ही 2 अन्य फ्लाइट्स को भी कैंसिल कर दिया गया था। पिछले 5 दिनों में अमृतसर एयरपोर्ट से करीब 25 से 30 फ्लाइट्स घंटों देरी से पहुंची। इसके अलावा एअर इंडिया की दिल्ली से भोपाल आने वाली फ्लाइट तीन घंटे की देरी से आई। मौसम की खराबी के कारण एअर इंडिया की जिस फ्लाइट को सुबह 7.30 बजे आना था वो सुबह 10.30 बजे आई। वहीं जेट एयरवेज की शाम की फ्लाइट मौसम की खराबी के कारण कैंसिल कर दी गई है। उत्तर भारत में मौसम की खराबी का असर फ्लाइट्स पर पड़ने लगा है। एअर इंडिया की दिल्ली से उड़ान भरने वाली फ्लाइट सोमवार को तीन घंटे की देरी से भोपाल पहुंची। इससे यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। वहीं, जेट एयरवेज की शाम 6.10 बजे दिल्ली जाने वाली फ्लाइट को कैंसिल करना पड़ा है। हालांकि, जेट ने इसकी सूचना दोपहर में ही यात्रियों को दे दी थी। टर्मिनल भवन में मौजूदा क्षमता से दोगुने से भी अधिक है। इससे आधे से अधिक लोगों को बैठने की जगह भी नहीं मिल रही थी। कुछ खड़े थे जबकि कुछ जमीन पर बैठे या चादर बिछा कर लेटे दिखे। कई लोग सूटकेस-ट्रॉली को भी कुर्सी की तरह इस्तेमाल कर रहे थे। एयरपोर्ट पर भीड़ से सबसे अधिक परेशानी कतार में खड़ी महिलाओं, बुजुर्गों व छोटे-छोटे बच्चों को हो रही थी। महिलाएं अपने लगेज के साथ बच्चों को भी ट्रॉली पर बैठाकर ले जा रही थीं।

 

 

Share This Post

Post Comment