दिल्ली में 15 करोड़ रुपये की ज्वैलरी चोरी में नया खुलासा

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः करोलबाग के रैगरपुरा इलाके में दो आभूषण कारखानों से 19-20 अक्टूबर की रात 15 करोड़ रुपये से अधिक के हीरे व सोने के जेवरात की चोरी में साहिबगंज और पाकुड़ से चार आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। दिल्ली पुलिस ने पाकुड़ व साहिबगंज में गुरुवार को छापेमारी कर इन चारों को धर दबोचा। पकड़े गए सभी अपराधी उधवा इलाके के कुख्यात शटर कटर गिरोह से जुड़े हैं। इनमें मास्टरमाइंड अबूजुल शेख भी शामिल है। चारों अपराधियों को पुलिस अपने साथ दिल्ली ले गई। इनकी निशानदेही पर पुलिस ने साहिबगंज के दो आभूषण कारोबारियों से भी पूछताछ की है। पुलिस ने पाकुड़ में छापेमारी कर पश्चिम प्राणपुर निवासी अबूजुल शेख (42) को पकड़ा। उससे मिली जानकारी के बाद साहिबगंज से नजरूल शेख (40), तमरुद्दीन शेख उर्फ समीर (27) और मुस्लिम उर्फ याकूब शेख को गिरफ्तार किया। पूछताछ के बाद मिले सुराग पर पूर्वी उधवा सोमवारी हाट से हाबू स्वर्णकार व जुगली स्वर्णकार को भी हिरासत में लेकर पूछताछ की गई। आरोपियों ने बताया कि चोरी की कुछ ज्वैलरी इन दोनों को बेच दी थी। हालांकि पुलिस पूछताछ के बाद इन दोनों को अपने साथ नहीं ले गई है। करोलबाग के रैगरपुरा स्थित चार मंजिला बिल्डिंग की चौथी मंजिल पर पश्चिम विहार निवासी चिराग वर्मा का जेवरात कारखाना व ईंडो-वेस्टर्न कमोडिटीज के नाम से कार्यालय भी है। चिराग वर्मा दीपावली के दिन लक्ष्मी पूजन के बाद घर चले गए। इस बीच रात में चोरों ने इनके कारखाने का ताला तोड़कर गैस कटर की मदद से दो तिजोरियों का दरवाजा काट दिया। यहां से सात करोड़ रुपये मूल्य के सोने व हीरे के जेवरात चुरा लिए। बदमाशों ने इसी बिल्डिंग में स्थित पद्मावती डायमंड प्राइवेट लिमिटेड को भी निशाना बनाया। इसके मालिक दीपक जैन भी दीपावली पूजा के बाद घर चले गए थे। चोरों ने यहां से तिजोरी काटकर आठ करोड़ रुपये की कीमत के जेवरात उड़ा लिए। पुलिस का मानना है कि इस बिल्डिंग में काम करनेवाले नेपाली नौकरों ने अपराधियों का साथ दिया था। पुलिस को सीसीटीवी फुटेज में पांच अपराधियों की तस्वीरें भी मिल गई थीं, लेकिन उनकी पहचान पुलिस नहीं कर पा रही थी। इनकी पहचान के लिए मुखबिरों का जाल बिछाया गया। उनसे मिली सूचना के बाद चार अपराधी पकड़े गए।

Share This Post

Post Comment