पत्नियों से था परेशान, खुद ने जला कर ही मार डाला पुलिस के सामने आरोपित पति ने कबूल की वारदात

जालोर, राजस्थान/पीराराम पटेल: सेसावा सरहद में मंगलवार कार में आगजनी की घटना में दो महिलाओं की मौत के मामले को पुलिस ने मात्र 24 घंटे में ही खुलासा कर दिया। पुलिस द्वारा मामले को संदेह के आधार पर मृतकाओं के पति से गहन पूछताछ और चश्मदीद के बयान के आधार पर पुलिस को पति दीपाराम पर ही शक हुआ और पुलिस पूछताछ के बाद उसने जुर्म कबूल किया। इससे पूर्व थाना क्षेत्र के सेसावा की सरहद में मंगलवार दोपहर चलती कार में आग लगने से दो महिलाएं जिन्दा जल गई। सूचना पर पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे और पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों को सुपुर्द किए। पुलिस के अनुसार सेसावा निवासी दीपाराम पुत्र हेमाराम प्रजापत अपनी दो पत्नियों मालूदेवी (28) व दरियादेवी (25) के साथ अस्पताल में इलाज करवाकर वापस घर लौट रहा था। इस दौरान रास्ते में अचानक कार में आग लग गई। इस पर वह कार से उतरा और पीछे की फाटक खोलने की कोशिश की, लेकिन तब तक आग ने विकराल रूप ले लिया और उसमें बैठी उसकी दोनों पत्नियों की जिन्दा जलने से मौत हो गई। दीपाराम की पहली पत्नी की दिमागी हालत सही नहीं होने के कारण उसने बच्चों की जिम्मेदारी के चलते दूसरी शादी की थी और शादी के बाद से वह परेशान था। दीपाराम गुजरात में कमठे का कामकरके अपने परिवार का पालन पोषण करता था। पहली पत्नी मालूदेवी से उसको एक बच्चा था। वहीं दूसरी शादी के बाद दरियादेवी से एक बच्चा व एक बच्ची हुई। ऐसे में दोनों की एक साथ मौत के बाद इन तीनों मासूमों की जिम्मेदारी उस पर आ गई है। दीपाराम के दोनों पत्नियों से कुल तीन संतानें हैं। इनमें से एक सात साल का बेटा है जो सबसे बड़ा है। वहीं एक एक तीन साल और एक साल भर की दूधमुंही बच्ची है। ऐसे में मां के बिना इस बच्ची की देखभाल का जिम्मा व कैसे सम्भाल पाएगा। यह तो भगवान ही जानता है। इनका कहना सेसावा सरहद में कार में आग की घटना के बाद दोनों विवाहिताओं की मौत के बाद शक के आधार पर पड़ताल की गई। पति ने जुर्म कबूल किया है।

Share This Post

Post Comment