20 साल पुराने पार्क के कायाकल्प में क्षेत्रीय लोगों का योगदान

नई दिल्ली/विशेष संवाददाताः उत्तरी दिल्ली के रोहिणी सेक्टर 4 में बदहाल पार्क में अब सुधार देखने को मिल रहा है क्योंकि इस का जिम्मा वहां के स्थानीय लोगों ने उठा लिया है। करीब 20 वर्ष पुराने इस पार्क में पहले बुनियादी सुविधाएं तो दूर घास भी नहीं थी। अकसर यहां अपराधिक घटनाएं अंजाम दी जाती थी। लूटपाट झपटमारी जैसी घटनाएं आम थी।

 

WhatsApp Image 2017-12-22 at 6.25.07 PM

असमाजिक तत्वों का अड्डा बन चुके इस पार्क में न तो बच्चें खेलने आते थे और न ही महिलाएं उसमें जाने का साहस कर पाती थीं। परंतु अब ऐसा नहीं है आज यहां सुबह की धूप से लेकर सूरज ढलने तक हर मौसम में पार्क हरा भरा और लोगों से आबाद रहता है।

WhatsApp Image 2017-12-22 at 6.25.05 PM

वैसे तो अभी इसको इस नए रूप में लाने में कुल 18 लोगों का योगदान है लेकिन करीब 6 महिने पहले इसकी शुरूआत यहां के निवासी राजेंद्र जी ने की थी। प्रदुषण के माहौल में इस तरह के कार्यो से वह आज भी सभी को प्रदुषण मुक्त क्षेत्र बनाने का संदेश दे रहे है।

WhatsApp Image 2017-12-22 at 6.25.02 PM
पेशे से बिजनेसमैन राजेंद्र शर्मा (54) गाड़ियों की खरीद बिक्री का काम करते है। उन्होने जब इस पार्क की ये हालत देखी तो बहुत चिंतित हुए और इसे बदलने की ठान ली। पिछले कुछ महिनों से राजधानी में प्रदुषण के बढ़ते हुए स्तर और लोगों को होने वाली असुविधा को देखते हुए उन्होने अपना ही प्रयास शुरू किया। उन्होने इस बदहाल पार्क में लाइटें लगवाई, टी-गार्ड बनवाया और सीमेंट के बेंच भी लगवाए। इसके आलावा पौधों की सिंचाई का प्रबंध करते हुए उसकी सुरक्षा के लिए लोहे की चादर भी लगवाई, इसमें करीब 1 लाख रूपये खर्च हुए। उन्होने बताया कि पार्क की तस्वीर बदलने के साथ ही लोगों का आना जाना शुरू हो गया और पार्क की रौनक बढ़ गई और सुरक्षा भी। इसके बाद स्थानीय लोग भी इस कार्य में हाथ बटाने लगे। आपसी सहयोग से 20 हजार रूपये एकत्रित कर पार्क के विकास के लिए जमा किए गए। इस कार्य में सरकार की ओर से कोई मदद नहीं ली गई, लेकिन अब उनके कार्यो की सराहना क्षेत्र के जनप्रतिनिधि भी कर रहे है।

Share This Post

Post Comment