पर्यावरण व गौसंरक्षण हेतु देशी गाय के गोबर से निर्मित गौकाष्ठ से हुआ अंतिम संस्कार

जयपुर, राजस्थान/भागचंदः जोबनेर कस्बे के भारीजा की ढाणी के रहने वाले हेमराज पुत्र सूजाराम कुमावत का देशी गाय के गोबर से निर्मित गौकाष्ठ से परिजनों व रिश्तेदारों ने अंतिम संस्कार किया। पर्यावरण व गौसंवर्धन की इस अनुठी पहल ने समाज व क्षेत्रवासियों को संदेश दिया तथा वैज्ञानिक दृष्टिकोण की सार्थकता की पुष्टी की। साथ ही समाज को संदेश दिया कि वन संरक्षण, गौकाष्ठ के जलने से उत्पन्न होने वाली प्राण-वायु से पर्यावरण शुद्धि के साथ-साथ गौकाष्ठ बनाने वाली गौशालाओं का आत्मनिर्भर बनना भी वर्तमान युग की मांग है। प्रत्यक्षदर्शियों व सामाजिक संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने इस पहल को गौरवपूर्ण व सार्थक बताया। इस अनूठी पहल से प्रदुषण मुक्ति, गौसंरक्षण व धार्मिक मनोप्राकाष्ठा को सात्विकता मिलती है।

Share This Post

Post Comment