पश्चिम बंगाल में स्कूलों के आस-पास तंबाकू उत्पाद बिक्री करने पर किया गया जुर्माने का ऐलान

कोलकाता, पश्चिम बंगाल/बबिताः पश्चिम बंगाल सरकार ने स्कूलों समेत राज्य के अन्य सभी शैक्षणिक संस्थानों के आस-पास तंबाकू उत्पाद की बिक्री पर 200 रुपये का जुर्माना लगाने का निर्देश दिया है। विद्यालय परिसर से या 100 गज की दूरी के भीतर यदि कोई तंबाकू उत्पादन की बिक्री करते हुए पकड़ा जाएगा तो उससे 200 रुपये तक का जुर्माना लिया जा सकता है। राज्य के शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने कहा कि पिछले सप्ताह जारी किये गये एक निर्देश में विद्यालय एवं राज्य के सभी शिक्षण संस्थानों से 100 गज के दायरे में तंबाकू उत्पाद बिक्री करने वालों पर जुर्माना लगाने का निर्देश दिया है। इस निर्देश की जानकारी एक परिपत्र के जरिये सभी विद्यालय एवं महाविद्यालय भेजा गया है। इस मामले में 2008 में सुप्रीम कोर्ट के राय के आदेश का सख्ती से पालन करने को कहा गया है। आदेश का उल्लंघन होने पर सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। निरीक्षकों को भी इस पर कड़ी नजर रखने का निर्देश दिया गया है। शैक्षणिक संस्थानों को भी यह सुनिश्चित करना होगा कि परिसर के अंदर तंबाकू उत्पाद की बिक्री नहीं हो रही है और कोई उसका सेवन नहीं कर रहा है। तंबाकू का पाउच या थूकने के निशान भी नहीं मिलना चाहिए। शिक्षा विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि सभी महाविद्यालय के कैंटिन और होस्टल्स में भी ध्रुम्रपान व तंबाकू उत्पादन की सेवन पर रोक लगाने का निर्देश दिया गया है। एक हेल्थ फाउंडेशन ने पिछले महीने महानगर के कई शैक्षिक संस्थानों का सर्वेक्षण किया था। सर्वे में लगभग 21 विद्यालय और 4 महाविद्यालयों को शामिल किया गया था। इसमें 17 शैक्षणिक संस्थानों के पास तंबाकू उत्पाद बिक्री होने के प्रमाण मिले थे। 2003 में सीओटीपीए के तहत केंद्र ने इस पर प्रतिबंध लगाया था। इसके तहत सार्वजनिक स्थानों में धूम्रपान और सिगरेट की बिक्री पर रोक तथा 18 वर्ष से कम उम्र के व्यक्ति के इसके सेवन करने पर भी प्रतिबंध लगाया गया था।

Share This Post

Post Comment