पकड़ा गया भ्रूण लिंग की जांच करने वाला गिरोह, दलाल व डॉक्टर गिरफ्तार

गुरूग्राम, हरियाणा/नगर संवाददाताः सरकार की सख्ती के बाद भी भ्रूण लिंग जांच करने वाले बाज नहीं आ रहे हैं। दिल्ली के कुछ इलाकों में यह गोरखधंधा धड़ल्ले से चल रहा है। गुरुग्राम स्वास्थ्य विभाग की टीम ने बुधवार को जाल बिछा कर दिल्ली के जनकपुरी इलाके के डाबरी मोड़ के पास चल रहे इमेज एक्सरे लैब एंड स्कैन सेंटर पर छापा मारा। इसी क्रम में भ्रूण लिंग जांच करने के आरोप में स्कैन सेंटर के संचालक डॉ. अमित के साथ ही रितिका क्लीनिक के संचालक एनके राय तथा दलाल देवेंद्र के खिलाफ जनकपुरी थाने में मामला दर्ज कराया गया है। पुलिस ने दलाल व डॉक्टर को गिरफ्तार कर लिया है। क्लीनिक संचालक एनके राय को पकड़ने का प्रयास किया जा रहा है। करीब चार दिन पहले उपायुक्त विनय प्रताप सिंह को किसी ने सूचना दी कि दिल्ली में कुछ जगहों पर भ्रूण लिंग जांच की जा रही है। इससे जुड़े लोग गुरुग्राम व अन्य जगहों पर सक्रिय हैं। सूचना देने वाले ने उपायुक्त को इस रैकेट से जुड़े व्यक्ति का मोबाइल नंबर भी दिया। नंबर भी दूसरे की आइडी पर लिया गया था। सूचना मिलते ही उपायुक्त ने सिविल सर्जन डॉ. बीके राजौरा को छानबीन कर छापेमारी कराने के निर्देश दिए। सिविल सर्जन ने छापे के लिए जिला ड्रग्स ऑफिसर अमनदीप चौहान की अगुवाई में एक टीम बना दी। टीम ने एक गर्भवती महिला से दलाल देवेंद्र के पास फोन कराया था। देवेंद्र ने भ्रूण लिंग जांच कराने के लिए दिल्ली मे नजफगढ़ के पास कारौला मोड़ पर रितिका क्लीनिक में महिला को बुलाया। महिला वहां पहुंची तो उससे 32 हजार रुपये एडवांस मांगे और कहा कि आगे का प्लान फोन पर बताएंगे। 31 अक्टूबर को देवेंद्र ने महिला को फोन कर बुलाया और उसे भ्रूण लिंग जांच के लिए इमेज एक्सरे लैब एंड स्कैन सेंटर जनकपुरी ले गया। स्वास्थ्य विभाग की टीम महिला के संदेश के बाद पीछे लगी रही। हालांकि देरी से पहुंचने के कारण डॉक्टर ने पहले दिन जांच करने से मना कर दिया और अगले दिन एक नवंबर को बुलाया। बुधवार को महिला देवेंद्र के साथ सेंटर पर पहुंची तो डॉक्टर ने महिला की जांच कर गर्भ में बेटी बताया। जांच पूरी हुई ही थी कि स्वास्थ्य विभाग की टीम वहां पहुंच गई। टीम ने देवेंद्र को पकड़ा। अंदर जाकर जांच की तो इमेज एक्सरे लैब एंड स्कैन सेंटर के डॉ. अमित धीर के पास से 16 हजार की रकम प्राप्त हुई। जिला ड्रग्स आफिसर अमनदीप चौहान ने बताया कि डॉ. अमित ने महिला मरीज का कोई फार्म भी नहीं भरा, जो किसी भी महिला का अल्ट्रासाउंड करने से पहले भरा जाना जरूरी होता है। चौहान ने कहा कि दिल्ली के जनकपुरी थाने में देवेंद्र, डॉ. अमित व रितिका क्लीनिक के मालिक एनके राय के खिलाफ मामला दर्ज करा दिया गया है। देवेंद्र व अमित को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। एनके राय को भी पकड़ने का प्रयास किया जा रहा है। गुरुग्राम जिला उपायुक्त विनय प्रताप सिंह ने कहा कि चार दिन पहले मिली सूचना के आधार पर स्वास्थ्य विभाग टीम ने भ्रूण लिंग जांच करने वालो को जेल भेज दिया है। इसके लिए टीम ने बड़ी मेहनत की। पिछले दो-तीन दिन से लगातार प्रयास किया जा रहा था और बुधवार को सफल रहे। हमारी टीम ने पिछले दो वर्ष में दिल्ली में चौथा मामला पकड़ा है।

Share This Post

Post Comment