आधुनिक खेती अपनाने हेतु किसानों का मण्डलायुक्त ने किया आहवान

आधुनिक खेती अपनाने हेतु किसानों का मण्डलायुक्त ने किया आहवान

गोंड़ा, उत्तर प्रदेश/श्याम बाबूः किसानों की समस्याओं के निराकरण के लिए प्रशासन पूरी तरह कटिबद्ध है और सभी अधिकारी किसानों की समस्याओं को प्राथमिकता के आधार निस्तारित करें तथा कृृषकबन्धु पारम्परिक खेती को छोड़कर आधुनिक और सहफसली फसली खेती आपनाएं जिससे उनकी आय में वृद्धि हो सके। यह विचार देवीपाटन मण्डल के आयुक्त एस0वी0एस0 रंगाराव ने नगर के बेंकटाचार्य क्लब में आयोजित मण्डलीय रवि गोष्ठी का फीता काटकर शुभारम्भ करने के उपरान्त अपने सम्बोधन में व्यक्त किए। गोष्ठी का शुभारम्भ मण्डलायुक्त ने फीता काटकर किया। शुभारम्भ के उपरानत आयुक्त ने जिलाधिकारी गोण्डा व अन्य अधिकारियों के साथ कृृषि विभाग द्वारा लगाए तमाम स्टालों का अवलोकन किया। इसके उपरान्त मण्डलायुक्त श्री रंगाराव ने गोष्ठी को सम्बोधित करते हुए किसानों द्वारा उठई तमाम समस्याओं के निस्तारण का आश्वासन दिया और जिम्मेदार अधिकारियों को निर्देश भी दिए। गोष्ठी के दौरान किसानों को उन्नत खेती, और खेती में आधुनिक तकनीक के इस्तेमाल तथा उपज बढ़ाने के लिए तमाम नवीन तरीकों के बारे में विस्तार से बताया गया। रवि गोष्ठी में मण्डल के जनपदों से आए हुए किसानों ने अपनी-अपनी समस्याएं रखते हुए कार्यवाही और समुचित समाधान की मांग की। किसानों ने गोष्ठी के दौरान छूट्टा जानवरों के कारण बर्बाद हो रही फसलों को बचाने के लिए शीघ्र ठोस कदम उठाने का अनुरोध किया ओर कहा कि छूट्टा जानवरों के कारण किसान भुखमरी के कगार पर पहुंच रहे हैं। इटियाथोक के किसान जुगला प्रसाद शुक्ला ने सर्व यूपी ग्रामीण बैंक तथा इलाहाबाद बैंकों द्वारा नो ड््यूज के लिए सुविधा शुल्क लिया जाता है। इसके अलावा आवेदन के काफी समय बाद भी सोलर पम्प किसानों को नहीं दिया जा रहा है। बहराइच के किसान बब्बन सिंह ने किसानों की उपज का सही मूल्य न मिलने तथा उपजों के अनुसार सही बाजार न होने की समस्या से अवगत कराया। परसपुर के किसान ओ0पी0 पाण्डेय ने किसानों को सिर्फ अनाज की फसल की पैदावार न करके अन्य उपजें जैसे मधुमक्खी पालन, जैविक खाद, लेमन ग्रास, मत्स्य पालन आदि भी अपनाकर आय बढ़ाने का आहवान किया। परसपुर के ही किसान पवन सिंह ने धान क्रय केन्द्र अब तब चालू न किए जाने की समस्या बताई गई। इसी प्रकार मण्डल के जनपदों के आए हुए किसानों ने विद्युत आपूर्ति, कनेक्शन समस्या, अधिक विद्युत बिल, बीमा राशि न मिलने, सोलर पम्प की आपूर्ति न होने, नलकूपों की खराब स्थिति, नहरों में समय से पानी की आपूिर्त न आने, मिलों द्वारा किसानों का भुगतान न होेने सहित कृृषकों की तमाम समस्याओं से मण्डलायुक्त को अवगत करया। किसानों की समस्याओं का संज्ञान लेते हुए मण्डलायुक्त ने एक नवम्बर से मण्डल के 192 धान क्रय केन्द्रों को अनिवार्य रूप से चालू करा देने आरएमओ को दिए हैं। आयुक्त ने किसानों की समस्याओं के निराकरण के लिए मण्डल स्तर पर व्हाट््सएप गु्रप बनाकर उसमें किसानों को भी जोड़ने तथा उस पर सूचनाएं और शिकायतों के निस्तारण की जानकारी अपडेट करने के निर्देश दिए हैं। मण्डलायुक्त ने कहा कि रबी की फसल की बुआई के लिए किसी भी दशा में उर्वरकों तथा उन्नत बीजों की उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी। उन्होने किसानों को आहवान करते हुए कहा कि वे सब आमदनी बढ़ाने के लिए पारम्परिक खेती छोड़कर आधुनिक और सहफसली खेती अपनाएं तथा रासायनिक उर्वरकों की जगह जैविक खाद का प्रयोग करें। उन्होने कहा कि आज के दौरा में कृृषि विविधीकरण अत्यन्त आवश्यक है। इससे ही किसानों की माली हालत सुधर सकती है। गोष्ठी के दौरान डीएम गोण्डा जेबी सिंह, सीडीओ गोण्डा दिव्या मित्तल, सीडीओ बलरामपुर, सीडीओ बहराइच, सीडीओ श्रावस्ती, संयुक्त कृृषि निदेशक देवीपाटन मण्डल, जिला उद्वान अधिकारी, अधिकारी अभियन्ता विद्युत, अधिशासी अभियन्ता सिंचाई सहित अन्य विभागीय अधिकारी व मण्डल के जनपदों के  प्रगतिशील किसान शामिल रहे।

Share This Post

Post Comment