दिल्ली से सटे नोएडा में हुआ भीषण सड़क हादसा

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः कासना कोतवाली क्षेत्र में कैलाश अस्पताल के सामने तेज रफ्तार में कार अनियंत्रित होकर डिवाइडर से टकराते हुए पेड़ से जा टकराई। हादसे में कार सवार दो इंजीनियर अमर सिंह (30) व राजेश कुशवाहा (40) की मौत हो गई। कार में सवार तीन अन्य लोग घायल हो गए। दो की हालत गंभीर है, उनका उपचार कैलाश अस्पताल में चल रहा है। बताया जा रहा है कि कार की रफ्तार 100 से अधिक थी। कार चालक लोकेश को हल्की चोट आई है। उसका कहना है कि सड़क पार कर रहे एक व्यक्ति को बचाने के चक्कर में कार डिवाइडर से जा टकराई। चालक को हल्की चोट व कार में मौजूद दो इंजीनियरों की मौत से लोग हादसे पर संदेह जता रहे है। इस आधार पर पुलिस ने लोकेश को हिरासत में ले लिया है। वह एक कंपनी में मैकेनिकल इंजीनियर है। सूरजपुर क्षेत्र में स्थित लोटस पार्क सोसायटी में पांच दोस्त अमर सिंह, राजेश कुशवाहा, प्रमोद, कुलदीप व लोकेश शर्मा रहते थे। अमर व कुलदीप की साझेदारी में साइट फोर स्थित एक बीपीओ कंपनी है। राजेश कुशवाहा दिल्ली स्थित एक कंपनी में नौकरी करते थे। पांचों रविवार रात 12 बजे के करीब खाना खाकर सोसायटी से साइट फोर स्थित अमर सिंह के ऑफिस जाने के लिए निकले थे। ऑफिस से फोन आया था कि काम करने में कोई तकनीकी समस्या आ रही है। जैसे ही कार सवार दोस्त कैलाश अस्पताल के निकट पहुंचे, तभी उनकी कार अनियंत्रित होकर डिवाइडर से टकराते हुए पेड़ से जा टकराई। हादसे के बाद कार में सवार लोग अंदर ही फंस गए। लोगों की मदद से राजेश, प्रमोद, कुलदीप व लोकेश को बाहर निकाल लिया गया, लेकिन अमर सिंह कार के अंदर ही फंसे रह गए। घायलों को उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया। उपचार के दौरान मूल रूप से मिर्जापुर के रहने वाले राजेश कुशवाहा की मौत हो गई। उपचार में देरी के कारण मूल रूप से आजमगढ़ के रहने वाले अमर सिंह की भी मौत हो गई। मौके पर मौजूद लोगों ने बताया कि गाड़ी काटने वाला गैस कटर घटना के करीब एक घंटे बाद मौके पर पहुंचा। आस-पास की पुलिस के पास कटर मौजूद नहीं था। यदि समय पर कटर आ जाता तो अमर सिंह की जान बचाई जा सकती थी। हादसे में जान गंवाने वाले अमर सिंह की डेढ़ साल पहले शादी हुई थी। राजेश भी शादीशुदा था, उसकी एक साल की एक बेटी भी है। घटना के बाद पुलिस ने गैस कटर से गाड़ी का अगला हिस्सा अलग कर अमर सिंह को बाहर निकाला था। गाड़ी का मीटर भी अलग पड़ा मिला है। स्पीड मीटर की सूई 90 पर अटकी मिली है। जो इस ओर इशारा कर रही है कि घटना के दौरान गाड़ी की स्पीड 100 से अधिक थी।

Share This Post

Post Comment