दिल्‍ली पहुंची डेरा सच्‍चा सौदा की आग से जांबाजों ने बचाई सैंकड़ों की जान

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः डेरा सच्‍चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को बलात्‍कार का दोषी ठहराए जाने के बाद हरियाणा में भड़की हिंसा की आग की लपटें दिल्‍ली तक पहुंच गईं। दिल्‍ली में कई बसों और ट्रेन की बोगियों को आग के हवाले कर दिया गया। हालांकि इस दौरान कोई हताहत नहीं हुआ। लेकिन अगर डीटीसी बस के एक ड्राइवर और कंडेक्‍टर ने हिम्‍मत और समझदारी नहीं दिखाई होती, तो कई लोगों की जान जा सकती थी। दिल्ली के ज्योति नगर में डीटीसी बस को आग के हवाले कर दिया गया। बस में आग लगाने वाले उपद्रवियों का एक वीडियो सामने आया है। इस बस का ड्राइवर अगर हिम्‍मत ना दिखाता तो 70-80 यात्री जिंदा जल जाते। डीटीसी की लाल (एसी) बस के ड्राइवर रमेश कुमार ने बताया, ‘ज्‍योति नगर के पास हेलमेट पहने हुए चार मेरी बस के आगे आ गए। मुझे लगा इन्‍हें सड़क पार करनी है, इसलिए मैंने बस धीरे कर दी। लेकिन इसके बाद 40 से ज्‍यादा लोग बस के सामने आ गए और सभी ने हेलमेट पहने हुए थे।’ रमेश कूमार ने बताया, ‘मैं समझ गया कि कोई दुर्घटना होने वाली है। हेलमेट पहना एक शख्‍स ने मेरे पीछे वाली सीट के पास का शीशा तोड़ दिया और पेट्रोल बस के अंदर डाल दिया। मैंने तुरंत अपनी एक पुरानी शर्ट इस पेट्रोल पर डाल दी, ताकि कपड़ा पेट्रोल को सुखा दे। इसके बाद मैंने सवारियों को उतारने के लिए कहा। लेकिन इतने में हेलमेट पहना एक शख्‍स बस में घुस गया और पेट्रोल में आग लगाने की कोशिश करने लगा। मुझे अब अपनी मौत सामने खड़ी दिखाई दे रही थी। ऐसे में मैंने हिम्‍मत दिखाई और इस शख्‍स से भिड़ गया। इस शख्‍स को मैंने काबू में कर लिया था। इस दौरान मैंने यात्रियों से कहा कि जल्‍द से जल्‍द बस खाली कर दो। बस से उतरने वाला मैं आखिरी इंसान था। इसके बाद हेलमेट पहने शख्‍स ने बस में आग लगा दी।’ इस लाल बस के पीछे डीटीसी की एक हरी(नॉन एसी) बस भी आ रही थी। इस बस के कंडेक्‍टर अनिल कुमार ने बताया कि उन्‍होंने कैसे समझदारी से काम लेते हुए 80 यात्रियों को बचाया। अनिल ने बताया, ‘मैंने देखा कि हमारे आगे खड़ी डीटीसी की बस को कुछ लोगों ने आग के हवाले कर दिया है। मैंने तुरंत ड्राइवर से कहा कि गेट खोलो और यात्रियों से बाहर जाने के लिए कहा। जब तब हेलमेट पहने उपद्रवी हमारी बस तक पहुंचते सारे यात्री बाहर जा चुके थे। ऐसे में उपद्रवियों ने बस और यात्रियों पर पत्‍थर मारने शुरू कर दिए। हमारी खाली बस को भी उपद्रवियों ने आग के हवाले कर दिया।’ सूत्रों की मानें तो डीटीसी बसों में आग लगते ही आसपास की सभी दुकाने बंद हो गईं। पुलिस भी जल्‍द ही मौके पर पहुंच गई। लेकिन तब तक सभी उपद्रवी वहां से फरार हो चुके थे।

Share This Post

Post Comment