तृतीय दीक्षान्त समारोह मे जैंतगढ़ को मिलेगा दो गोल्ड मेडल

पश्चिम सिंघभूम, झारखंड/गोपाल निषादः कोल्हान यूनिवर्सिटी के आगामी होने वाले तृतीय दीक्षान्त समारोह मे वर्ष 2015 व 16 के विभिन्न कोर्स मे पास आऊट कुल 67 टॉपर छात्र छात्राओं को गोल्ड मेडल प्रदान किया जाएगा। जिसमे जैंतगढ़ के दो छात्र दानिश हम्माद और इम्तियाज आलम का नाम भी शामिल है। दानिश हम्माद ने सत्र 2013-15 के उर्दू विषय मे 74.06 प्रतिशत अंक के साथ टॉप किया जबकि इम्तियाज आलम सत्र 2014-16 के ईर्दू विषय मे ही 69.25 प्रतिशत अंक के साथ टॉपर हुए। दानिश एक कवि और लेखक भी हैं। इंटरमीडिएट (2010) मे ही रोचक कथाओं की एक किताब “बिखरीं यादें” लिख कर उन्होने युवा लेखकों की सूची मे अपनी जगह बना ली। अभी वह केयू मे पीएचडी के छात्र हैं और कोल्हान क्षेत्र मे उर्दू शायरी पर शोध कर रहे हैं। उनका लक्ष्य प्रोफेसर बनने का है। गोल्ड मेडलिस्ट केलिए चयन किए जाने पर अपार हर्ष जताते हुए दानिश हम्माद ने कहा कि केयू के प्रथम दीक्षान्त समारोह मे मेरे भाई वासिफ रजा को गोल्ड मेडल प्रदान किया गया, उसी समय मैने यह ठान लिया था कि मै भी एक दिन यह मुकाम हासिल करूंगा। माता पिता की दुआओं और भाई के सही मार्गदर्शन की वजह से इस लक्ष्य को प्राप्त कर पाया। पूछे जाने पर उन्होने छात्रों को संदेश देते हुए कहा कि किसी चीज को पाने की ठान लें और पूरी तरह उस केलिए अग्रसर हो जाएं तो वह चीज आपको जरूर मिलेगी। हाफिज इम्तियाज आलम ने कहा कि प्रत्येक विद्यार्थियों का कोई न कोई लक्ष्य होता है। मेरा भी लक्ष्य था कि मै गोल्ड मेडल प्राप्त करूं। इसकेलिए मेहनत, लगन और जज्बा महत्वपूर्ण है। इसका श्रेय मै अपने माता पिता के अलावा मेरे मितत्रों को देना चाहता हूं जिनके दुआओं के असर से मै इस मुकाम तक पहुचने मे सफल हुआ हूं। साथ ही डॉ.रुकैया बानो का भी आभारी हूं जिन्होने मुझे अच्छी तालिम दी और हर मोड़ पर मेरी रहनुमाई की। मेरा लक्ष्य भविष्य मे प्रोफेसर बनने का है। जैंतगढ़ मे दो दो गोल्ड मेडल आने पर दानिश और इम्तियाज के माता पिता सहित सभी जैंतगढ़ वासियों मे हर्ष है।

Share This Post

Post Comment