असम पहुंचे पीएम मोदी, करेंगे बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा

लखीमपुर, असम/नगर संवाददाताः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूर्वोत्तर में बाढ़ के हालात का जायजा लेने के लिए असम के गुवाहाटी पहुंच गए हैं। इस दौरान पीएम मोदी बाढ़ से निपटने के लिए स्थायी समाधान पर विचार करेंगे। असम में बाढ़ की चपेट में आकर जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों को पीएम मोदी ने दो-दो लाख रुपये के मुआवजे की घोषण सोमवार को कर दी थी। वहीं गंभीर रूप से घायल लोगों के लिए भी 50-50 हजार रुपये की सहायता की घोषणा की है। सोमवार को पीएमओ की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक, असम में पीएम मोदी बाढ़ के हालात के मद्देनजर उच्च स्तरीय बैठकें लेंगे। इसमें पूर्वोत्‍तर के राज्यों खासकर असम, अरूणाचल प्रदेश, नगालैंड तथा मणिपुर में राहत कार्यों का आकलन करेंगे। बताया जा रहा है कि बैठकों में इन राज्‍यों के मुख्‍यमंत्रियों और वरिष्‍ठ अधिकारियों के मौजूद रहने की भी उम्‍मीद है। हालांकि इस समय इन राज्‍यों के ज्‍यादातर उच्‍च अधिकारी राहत और बचाव कार्यों में जुटे हुए हैं। देश के ज्‍यादातर राज्‍य इस समय भारी बारिश के कारण बाढ़ की चपेट में हैं। गुजरात से लेकर असम तक पानी कहर बरपा रहा है। गुजरात में सोमवार तक बाढ़ के कारण मरने वालों की संख्‍या 186 के पार पहुंच गई थी। वहीं असम में भी बाढ़ से जानमाल का काफी नुकसान हुआ है। असम में बाढ़ से हालात बेहद बिगड़ गए हैं। अब तक 61 लोगों की मौत हो गई है और 10 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित हैं। असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएसडीएमए) की रिपोर्ट के अनुसार मोरीगांव जिले में एक व्यक्ति की मौत हो जाने से इस साल बाढ़ से होने वाली घटनाओं में जान गंवाने वालों की संख्या 60 तक पहुंच गई है। बाढ़ से प्रभावित होने के बाद सिर्फ गुवाहाटी में ही 8 लोगों की मौत हुई है। एएसडीएमए के मुताबिक, फिलहाल राज्य के नलबाड़ी, बारपेटा, बोंगईगांव, चिरांग, धेमाजी, लखीमपुर, बिस्वनाथ, दरांग, कोकराझार, धुबरी, दक्षिण सल्मारा, ग्वालपाड़ा, मोरीगांव, नगांव, कार्बी आंगलांग, गोलाघाट, जोरहाट, माजुली, शिवसागर, करीमगंज और कछार जिलों में 10 लाख से अधिक लोग प्रभावित हैं।

Share This Post

Post Comment