जादू टोने के चक्कर में 2 दिन से घायल युवती को रेस्क्यू कर लाया चिकित्सालय दुर्घम रास्तो पर चली 108

पाली, राजस्थान/ महेन्द्र कुमारः यह कोई काल्पनिक घटना या कहानी नही यह हकीकत है। राजस्थान के बाली तहसील के आदिवासी बाहुल्य कोयलवाव पचायत के काली पहाड़ी ढाणी की यहा एक युवती पिछले कहि दिनों से बीमार चल रही थी और परिजन युवती को हॉस्पिटल ले जाने की बजाय जादू टोने का जाड़ फ़ूड करवा रहे थे। दो दिन से युवती अचेत होकर भूखी प्यासी घर में 2 दिन से अचेत पड़ी थी। इस ढाणी में शिक्षा का अभाव होने से किसी ने चिकित्सिकीय उपचार की सलाह परिजनों को नही दी। आज रात्री करीबन 9 बजे एक सामाजिक आदिवासी युवक ने इस युवती के उपचार को लेकर ब्लाक चिकित्सा अधिकारी डॉ हितेन्द्र वागोरिया से बात की। चिकित्सा अधिकारी डॉ वागोरिया ने फोन करने वाले युवक से पता पूछा और युवक के नंबर एम्बुलेन्स108 के चालक और मेडिकल स्टाफ को देकर रवाना किया। 108 स्टाफ रात 10 बजे के करीब कोयलवाव पहुचा और युवती हीना पुत्री नारायण लाल 16 गरासिया को चेक किया। युवती की हालत गभीर बनी हुई थी। 108 स्टाफ ने काफी समजाइस की परन्तु परिजन आर्थिक तंगी की बात करने लगे। 108 की टीम ने परिजनों की बात चिकित्सा अधिकारी को बताई और बात करवाई।  चिकित्सा अधिकारी डॉ वागोरिया ने परिजनों को मुफ़्त दबाई उपचार और मरीज को लाने और ले जाने का खर्च चिकित्सा विभाग द्वारा निःशुल्क करने की समजाइस के बाद परिजन युवती को लेकर बेडा के प्राथमिक स्वास्थ केन्द्र में आये जहा चिकित्सक उपचार कर रहे है। बेडा के डॉक्टर राजेश दवे के अनुसार युवती दो तीन दिनों से भूखी प्यासी है तेज बुखार और खून की कमी भी है प्राथमिक तौर पर उपचार चालू किया गया है अगर हालात में सुधार नही हुआ तो युवती को आगे भी रेफर किया जायेगा। सरकारी चिकित्सा अधिकारी की पहल पर कहि समाज सेवक बेडा हॉस्पिटल में मौजूद है जो पीड़ित को आर्थिक मदद करने को तयार है।

Share This Post

Post Comment