बारिश थमने से केदारनाथ यात्रा शुरू, एक सप्ताह मंद रहेगा मानसून

देहरादून, उत्तराखंड/नगर संवाददाताः पिछले तीन दिन से आफत मचाने के बाद उत्तराखंड में मानसून की रफ्तार मंद पड़ गई। बारिश थमने से लोगों ने राहत महसूस की। वहीं, दो दिन से रोकी गई केदारनाथ यात्रा फिर से शुरू हो गई। साथ ही चारधाम यात्रा मार्गों का खुलने व बंद होने का सिलसिला अभी जारी है। इसके साथ ही पर्वतीय क्षेत्रों में बंद पड़े संपर्क मार्ग खोलने का काम भी तेज हो गया है। मौसम विज्ञान केंद्र, देहरादून के निदेशक विक्रम सिंह के अनुसार अब एक हफ्ते तक मानसून की रफ्तार मंद रहने की संभावना है। हालांकि, कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होगी, लेकिन भारी अथवा बहुत भारी वर्षा की संभावना फिलहाल नहीं है।चमोली जनपद में तो थम गई, लेकिन गत दिवस लामबगड़ में हुए भूस्खलन से बंद बदरीनाथ हाईवे को सुबह तक नहीं खोला जा सका। यहां करीब बीस मीटर हाइवे क्षतिग्रस्त हो गया था। इसे ठीक करने का काम चल रहा है। देहरादून, टिहरी, उत्तरकाशी, पौड़ी, हरिद्वार के साथ ही कुमाऊं के सभी जिलों में बारिश थमी है। हालांकि आसमान में हल्के बादल हैं और ज्यादातर स्थानों पर कोहरा छाया है। कहीं-कहीं धूप भी खिल गई है। उत्तरकाशी में गंगोत्री व यमुनोत्री हाईवे बंद होने व खुलने का सिलसिला जारी है। यमुनोत्री हाईवे हनुमान चट्टी के पास बंद हो गया था। इसे भी अब खोल दिया गया। वहीं, गोमुख जाने वाले यात्रियों के लिए सुबह से दोपहर डेढ़ बजे गेट खोल दिए गए। कुमाऊं में रानीखेत, कोसी व गगास घाटी में कोहरे की चादर बिछी है। वहीं, चंपावत में बादलों के बीच धूप निखर आई। पिथौरागढ-टनकपुर नेशनल हाइवे यातायात के लिए सुचारु है। चंपावत जिले 17 ग्रामीण मार्ग अभी भी बंद हैं। बागेश्वर में भी आठ संपर्क मार्ग बंद हैं। पिथौरागढ़ में भी रात भर की बारिश के बाद सुबह मौसम साफ हो गया। जिले के करीब एक दर्जन संपर्क मार्ग अवरुद्ध हैं।

Share This Post

Post Comment