दिल्‍ली में बड़े पेंशन घोटाले की आशंका, समाज कल्याण विभाग में खलबली

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः दिल्‍ली में एक बड़े पेंशन घोटाले की आशंका प्रबल रूप से बन रही है। घोटाले को लेकर यह शक बेवजह नहीं है। दरअसल, अभी तक जो तमाम लोग पेंशन के लिए हो हल्ला मचा रहे थे, अब सरकार ऐसे लोगों को पेंशन लेने के लिए बुला रही है। सरकार पेंशनभोगियों को बुलाने के तमाम उपक्रम कर चुकी है, लेकिन अभी तक कोई पेंशनधारक सरकार के बुलावे पर नहीं आया। सरकार ने इसके लिए बाकायदा दो बार विज्ञापन निकाले। हर विधानसभा में इसके लिए शिविर लगाया गया। मगर फिर भी लोग पेंशन के लिए नहीं आ रहे हैं। ये वे लोग हैं जो अभी तक नगर निगमों के पास पेंशन ले रहे थे। बता दें कि दिल्ली हाईकोर्ट के एक आदेश के बाद दिल्ली के तीनों नगर निगमों में पेंशन ले रहे करीब डेढ़ लाख लोगों को दिल्ली सरकार के पास करीब 6 माह पहले ट्रांसफर कर दिया गया था। सरकार का समाज कल्याण विभाग पेंशन देने का कार्य करता है। इस विभाग ने औपचारिकता पूरी करने के लिए इन पेंशन पाने वालों के लिए 5 माह पहले अखबारों में विज्ञापन दिया कि वे लोग आकर अपना फार्म भर कर जमा करा दें तथा अपना सत्यापन करा लें। इसके लिए वह दस्तावेज भी साथ लाएं। इससे यह सिद्ध हो सके कि उन्हें पेंशन मिल रही थी। लोग नहीं आए तो सरकार ने फिर से विज्ञापन निकाला। इसके बाद प्रत्येक विधानसभा में शिविर लगाए गए कि लोग आकर अपनी प्रक्रिया पूरी कर दें। इस सब प्रयास के बाद अब तक 5 हजार के करीब ही लोग आगे आए हैं। सरकार को आशंका है कि जरूर फर्जी तरीके से लोग पेंशन ले रहे थे। इसलिए लोग आगे नहीं आ रहे। दिल्ली के समाज कल्याण मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने कहा है कि पहले से पेंशन पाने वाले लोग अपनी पेंशन लेने के लिए आगे आएं। उन्होंने कहा कि समाज कल्याण विभाग के हर जिला कार्यालय स्तर पर यह कार्य चल रहा है, जो लोग पेंशन के लिए अब भी नहीं आएंगे उनकी जांच की जाएगी। क्योंकि सरकार के लिए यह जानना जरूरी है कि जिन्हें पैसे की सख्त जरूरत है वे पेंशन के लिए आगे क्यों नहीं आ रहे?

Share This Post

Post Comment