रानीजोत पंचायत भवन बना गंंदगी का अड्डा

गोण्डा, उत्तर प्रदेश/श्याम बाबूः विकास खण्ड छपिया की सबसे बडी ग्राम पंंचायत रानीजोत जो मसकनवां कस्बा के नाम से भी जाना जाता है। लेकिन गंंदगी का यह आलम है की गोण्डा जनपद तो देश स्तर के सर्वे मे अपना पहला स्थान बनाया था लेकिन ग्राम पंंचायत रानी जोत उससे भी आगे है। ग्राम पंंचायत की जनता प्रधान मुन्नी देवी के पति विनोद कुमार जो प्रधान का सारा कार्य देखते है, उनसे कई बार कह चुकी है लेकिन प्रधान पति के ऊपर कोई प्रभाव नही पडता। वह रानीजोत की जनता को सीधा और साफ जवाब दे देते है कि सफाई का कोई मद /पैसा ग्राम सभा मे आता ही नही है। जबकि दो सफाई कर्मी की तैनाती भी उक्त ग्राम सभा मे है। उसके बाद भी सफाई न होना यह स्पष्ट करता है कि जनप्रतिनिधि एवं इससे जुडे प्रसाशनिक अधिकारी सीधे रुप से जिम्मेदार है। विकास खण्ड छपिया की सबसे बडी ग्राम पंचायत रानीजोत का पंंचायत भवन पूरा कस्बा गन्दगी से पट गया है, कस्बे मे संंक्रामक बीमारीयो ने बरसात होते ही अपने पांव पसारने शुरु कर दिये। लेकिन न तो कोई अधिकारी इसके लिए आगे बढ रहा है नही इस ग्राम सभा के चुने जनप्रतिनिधि है। अभी कुछ दिन पहले उ0प्र0 उद्दोग व्यापार प्रतिनिधि मण्डल मसकनवां बाजार से जुडे कुछ व्यापारियो ने क्षेत्रीय विधायक भाजपा प्रभात वर्मा से कस्बे मे व्याप्त गंंदगी की शिकायत की थी उस पर क्षेत्रीय विधायक ने खण्ड विकास अधिकारी व ए.डी.ओ. पंंचायत से सफाई के लिए कहा था विधायक के कहने पर इन अधिकारियो द्वारा विधायक के आदेश के क्रम मे कुछ जगह सफाई कर खाना पूर्ति कर दी। लेकिन आज भी कस्बे मे गंंदगी का आलम यह की आम जनमानस /इस ग्राम पंंचायत के लोगो को इस गंदगी मे सांंस ले पाना बडा मुश्किल है ।इतना ही नही आज भी इस ग्राम सभा मे सबसे ज्यादा संंख्या खुल्रे मे शौच जाती है जबकि जनपद गोण्डा के विकास खण्ड छपिया की सबसे बडी ग्राम पंचायत रानीजोत है यही नही इसकी सीमा विकास खण्ड मुख्यालय से मात्र 300 मीटर की दूरी से शुरु होती है उसके बावजूद इस ग्राम सभा मे किसी अधिकारी की नजरे इनायत न होना इस ग्राम सभा का दुरभाग्य तो कहा नही जा सकता,लेकिन यह जरुर कहा जा सकता है कि इससे जुडे लोग मे संंवेदन हीनता स्पष्ट दिखाई पडती है। रानीजोत की जनता पूर्ण रुप से सफाई के लिए ग्राम प्रधान प्रतिनिधि विनोद कुमार को ही दोषी मानती है इसके लिए कई ग्राम सभा वासियो ने नाम ना छापने पर यह बताया कि इसके पूर्व मे प्रधान विनोद कुमार ही प्रधान थे तब कौन से मद से सफाई होती थी क्या अब वह मद नही है कई लोग तो यह भी कह रहे है दो बार हो गये प्रधान अब इस बार प्रधान कार्य इसलिए नही कर रहे है कि तीसरी बार प्रधान हो पाना बडा मुश्किल है दूसरी बार दस वोट से जीते थे ।ग्राम सभा के कुछ लोग तो प्रधान से अब सफाई की बात करना ही छोड दिया है ।सूत्र बताते है कई लोगो को प्रधान प्रतिनिधि आंंख लाल पीले करते हुए अपने दरवाजे से भगा दिया और यह कहा कि हमारे खिलाफ चाहे डी.एम के यहां जाओ चाहे सी.एम के यहां जब सफाई का मद ही नही है तो हम अपने घर से सफाई करायेगे ।प्रधान प्रतिनिधि विनोद को लेकर कस्बे मे तरह -तरह के लोग चर्चे भी कर रहे है कि शायद बाजार से प्रधान को मत कम मिले थे इसी नाते प्रधान प्रतिनिधि विनोद कुमार ग्राम सभा रानीजोत से मुंंह फेरे हुए है। .डी. ओ. पंंचायत और प्रधान प्रतिनिधि विनोद कुमार एक दूसरे के ऊपर कर रहे है दोषा रोपण, ए.डी.ओ. पंंचायत छपिया कनिक राम वर्मा से पूछने पर उन्होने ने प्रधान को सीधे रुप से दोषी बताया कि प्रधान प्रतिनिधि विनोद कुमार द्वारा ही गंंदगी का ढेर पंंचायत भवन पर लगवाया जा रहा है । सफाई के लिए दो सफाई कर्मी तैनात है रानीजोत ग्राम पंचायत  मे उसके बाद खाते पचासो लाख रुपये भी है इतना  प्रयाप्त पैसे होने के बावजूद सफाई न हो पाना ग्राम पंंचायत प्रतिनिधि विनोद कुमार का ही दोष है ।जबकि प्रधान प्रतिनिधि विनोद कुमार सीधे  रुप से ए.डी.ओ.पंंचायत को ही दोषी करार दे रहे है। जिलाधिकारी ही ले संंज़ान मे तभी ग्राम पंंचायत रानीजोत का होगा भला रानीजोत के लोगो का कहना है जिलाधिकारी स्वयं ले संंज़ान मे तभी ग्राम पंंचायत रानीजोत की समस्याओ का निराकरण हो सकता जब पंंचायत भवन का ये हाल है तो ग्राम सभा मे गंंदगी का क्या आलम होगा ।इसी से पता लगाया जा सकता है।

Share This Post

Post Comment