लालू परिवार के पास एक और बेनामी संपत्ति : सुशील मोदी

पटना, बिहार/नगर संवाददाताः भाजपा नेता सुशील मोदी ने आज लालू प्रसाद के परिवार के पास एक और ‘बेनामी संपत्ति’ होने का आरोप लगाया और कहा कि वह ऐसे हालात बना देंगे कि नीतीश कुमार को लालू के मंत्री पुत्रों को सरकार से हटाना होगा। बाद में आरजेडी ने आरोपों को बेतुका और बेबुनियाद बताकर खारिज करते हुए कहा कि कोई सुशील मोदी को गंभीरता से नहीं लेता। सुशील मोदी ने आरोप लगाया कि कोलकाता की एक कंपनी ने 76.32 लाख रूपये के एक भूखंड के साथ एक मकान खरीदा था जिस समय आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद रेल मंत्री(2004 से 2009) थे। उन्होंने आरोप लगाया कि बाद में कंपनी ने लालू के दोनों बेटों और दो बेटियों को अपना निदेशक बनाया। इससे पहले भी सुशील मोदी ने आरोप लगाते हुए कहा था कि ‘लालू की पत्नी और पूर्व सीएम राबड़ी देवी 18 फ्लैट्स की मालकिन है। सुशील मोदी का दावा है कि बिहार की मुख्यमंत्री रहते हुए ये सभी फ्लैट्स राबड़ी देवी के नाम किए गए। सुशील मोदी ने कथित दस्तावेजों के आधार पर आरोप लगाते हुए कहा, ”ये 18 फ्लैट कुल 18,652 स्क्वायर फीटर में में बने हैं जिनकी वे मालकिन है। इन फ्लैट्स की आज की कीमत 20 करोड़ रूपए से ज्यादा है। राबड़ी देवी ने ये जमीन लालू यादव के रेल मंत्री और अपने सीएम रहते अपने नाम लिखवायीं थीं। ये जमीन तीन ऐसे लोगों से लिखवायी गई जिनके परिवार को रेलवे में नौकरी दी गई थी या जिन्हें रेल मंत्री के नाते मदद की गई थी।” वहीं इससे पहले उन्होंने लालू की पांचवीं बेटी हेमा यादव पर 62 लाख रूपये का बेनामी जमीन तोहफे के तौर पर रखने का आरोप लगाया. बीजेपी नेता ने दावा किया कि ललन चौधरी नामक जिस व्यक्ति ने हेमा को जमीन तोहफे के तौर पर दिया, वह लालू के मवेशियों की देखभाल करता था और उसका नाम बीपीएल सूची में शामिल है। सुशील मोदी ने कहा कि सीवान जिले के बडहरिया थाना अंतर्गत सियाडिह गांव निवासी ललन चौधरी ने केवल राबड़ी देवी को ही 30 लाख 80 हजार रूपये के मकान सहित 2. 5 डिसमिल जमीन दान में नहीं दी, बल्कि कुछ दूसरे लोग (हेमा यादव) भी हैं जिनको दान कर ललन ने पुण्य कमाया है। बीजेपी नेता पिछले कई दिनों से लालू यादव और उनके परिवार पर हमलावर मुद्रा में हैं और लगातार वो उनपर कई गंभीर आरोप लगा रहे हैं।

Share This Post

Post Comment