आईजीआरएस में खराब प्रगति पर 28 अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी तीन दिवस के अन्दर प्रकरणों के निस्तारण न किये जाने पर दिये सख्त कार्रवाई के निर्देश

आईजीआरएस में खराब प्रगति पर 28 अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी तीन दिवस के अन्दर प्रकरणों के निस्तारण न किये जाने पर दिये सख्त कार्रवाई के निर्देश

गोंडा, उत्तर प्रदेश/श्याम बाबू कमलः आईजीआरएस के तहत प्राप्त जनशिकायतों के निस्तारण में लापरवाही पर डीएम ने कड़ा रूख अपनाते हुए 28 अधिकारियों को कारण बताओ नाटिस जारी करते हुए तीन दिन के भीतर निस्तारण की चेतावनी दी है। उन्होने अधिकारियों को सख्त चेतावनी देते हुए निर्देश दिए हैं प्राप्त शिकायतों का निस्तारण शीघ्र प्राथमिकता पर समय सीमा के अन्तर्गत करायें और इसकी सूचना में उपलब्ध करायें जनशिकायतों के निस्तारण में किसी प्रकार की ढिलाई क्षम्य नहीं होगी। यह कार्यवाही जिलाधिकारी जेबी सिंह ने कलेक्ट्रेट सभागार में आईजीआरएस की समीक्षा के दौरान दिये। आईजीआरएस पोर्टल पर विभिन्न विभाागों की प्राप्त हुई शिकायतों के निस्तारण की समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी ने पाया कि जिला स्तर पर जिला पंचायतराज अधिकारी, परियोजना निदेशक, नगर पालिका, जिला ग्राम्य विकास अभिकरण, अधिशासी अधिकारी नगर पालिका, अधिशासी अभियंता विद्युत वितरण खंड-2, डीसी मनरेगा व तहसील स्तर पर उपजिलाधिकारी सदर, उपजिलाधिकारी करनैलगंज, उपजिलाधिकारी मनकापुर एवं उपजिलाधिकारी तरबगंज, विकास खंड स्तर पर खंड विकास अधिकारी रूपईडीह, खंड विकास अधिकारी परसपुर, खंड विकास अधिकारी झंझरी, खंडविकास अधिकारी नवाबगंज, खंड विकास अधिकारी मुजेहना, खंड विकास अधिकारी तरबगंज एवं हलधरमऊ एवं इसी प्रकार पुलिस विभाग की खराब प्रगति प्राप्त होने पर सम्बन्धित थानाध्यक्ष कोतवाली नगर, इटियाथोक, करनैलगंज, छपिया, मनकापुर, वजीरगंज, कटरा बाजार एवं खोड़ारे को खराब प्रगति के कारण स्पष्टीकरण मांगा गया है। साथ ही यह भी निर्देश गया है कि तीन दिन के अन्दर प्रकरण को निस्तारण नहीं कराया जाता है, तो इस सम्बन्ध में सम्बन्धित विभाग के अधिकारियों पर कार्रवाई हेतु शासन को पत्र भेज दिया जायेगा। बैठक में एडीएम त्रिलोकी सिंह, मुख्य राजस्व अधिकारी अरुण कुमार शुक्ल, अपर पुलिस अधीक्षक सभी विभागों के अधिकारीगण उपस्थित रहे।

Share This Post

Post Comment