बाड़मेर मे भोले भाले ग्रामीणों को खुले आम लूटा जा रहा है

बाड़मेर, राजस्थान/भगत सिंहः एक तरफ सरकार जहाँ हर क्षेत्र को ऑनलाइन ईमित्र से जोड़कर भ्रष्टाचार को खत्म करने की कवायद कर रही है। वहीँ दूसरी तरफ ईमित्र संचालको के लालच के चलते मुंहमांगी दरो से भ्रष्टाचार रुकने के बजाय और ज्यादा बढ़ गया है। ताजा मामला बाड़मेर का है यहाँ सरकारी अटल सेवा केंद्र मे खुले आम भोले भाले ग्रामीणों को लूटा जा रहा c। बाड़मेर के महावीर नगर निवासी ईश्वर जांगिड़ ने स्थानीय मिडिया को सुचना देकर बताया क़ि बाड़मेर कैलेक्ट्रेट स्थित अटल सेवा केंद्र में संचालित ईमित्र पर उसने मूलनिवास प्रमाण पत्र बनाने को दिया था। संचालक ने मूलनिवास प्रमाण पत्र बनाने के उससे 100 रूपये ले लिए जबकि सरकारी हिसाब से तय दर के मुताबिक उसे 40 रूपये लेने चाहिए थे। ईश्वर जांगिड़ की इस सूचना के बाद मौके पर पहुंची हमारी टीम ने ईमित्र संचालक को स्टिंग किया स्टिंग में ईमित्र संचालक ने यह स्वीकार किया क़ि उसने तय सरकारी दर से पैसे अधिक लिए है। इस पड़ताल में सामने आया कि सरकारी तय दरो से अधिक वसूली इस ईमित्र व अन्य इमित्रो पर लंबे समय से जारी है। जिसकी कई शिकायते भी सम्बंधित विभाग मे लंबित है। लेकिन अधिकारियो की मिलिभक्ति के चलते कोई कार्यवाही नही हो पा रही है। इनका कहना है इस मामले की जाँच की जायेगी और नियमानुसार जो  कार्यवाही होगी वह की जायेगी।

Share This Post

Post Comment