नेवी में नौकरी के नाम पर सैकड़ों लोगों से फर्जीवाड़ा, करीब 1 करोड़ लेकर कंपनी फरार

इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश/नगर संवाददाताः इलाहाबाद में नेवी में कांट्रैक्ट पर नौकरी लगवाने के नाम पर सैकड़ों बेरोजगारों के साथ फर्जीवाड़ा करते हुए उनकी मेहनत की कमाई हड़पकर एक कंपनी के फरार होने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। इलाहाबाद की इस कंपनी ने मुंबई में नेवी में कांट्रैक्ट पर नौकरी लगवाने के नाम पर तकरीबन चार सौ से ज़्यादा लोगों से लाखों रूपये की वसूली की। लोगों को अपने जाल में फंसाने के लिए उन्हें फर्जी कांट्रैक्ट लेटर और आईकार्ड जारी किये। तकरीबन एक करोड़ रूपये वसूलने के बाद कंपनी सारा सामान लेकर फरार हो गई। इस मामले में पचास से ज़्यादा पीड़ितों ने पुलिस में शिकायत दर्ज करा दी है। इलाहाबाद पुलिस ने इस मामले में केस दर्ज कर अपनी तफ्तीश शुरू कर दी है। फ़िलहाल किसी भी आरोपी को गिरफ्तार नहीं किया जा सका है। इलाहाबाद के पाश इलाके सिविल लाइंस में कुछ महीने पहले इंटरनेशनल लिंक के नाम से जॉब प्लेसमेंट कंपनी खोली गई। कंपनी का दफ्तर बेहद शानदार था। कंपनी ने कुछ दिनों पहले मुंबई में नेवी में कांट्रैक्ट पर नौकरी दिलाने का विज्ञापन निकाला। तकरीबन एक हजार लोगों से इंटरव्यू लेकर उनसे बारह हजार से साठ हजार रूपये वसूले गए। कोई शक न करे, इसलिए शुरू में किसी से कोई पैसे नहीं लिए गए। पिछले हफ्ते तीन सौ इक्यासी लोगों को एप्वाइंटमेंट लेटर देकर उनसे पैसे जमा कराए गए। बताया गया कि इन सेलेक्ट लोगों को ग्यारह जून को दोपहर बारह बजे बसों से मुंबई भेजा जाएगा। बस में भेजने और रास्ते के खाने के नाम पर अलग से पैसे वसूले गए। लोगों को बताया गया था कि उन्हें 20 से 45 हजार रूपये तनख्वाह मिलेगी। 11 जून को लोग सामान लेकर कंपनी के दफ्तर पहुंचे तो वहां ताला लगा हुआ मिला। कंपनी से जुड़े सभी लोगों के मोबाईल भी बंद हो गए थे। पता चला कि कंपनी के लोग रात को ही सारे बड़े सामान भी ट्रक पर लाद ले गए थे। शाम तक इंतजार के बाद लोगों को अपने ठगे जाने का एहसास हुआ। लोग रात को सिविल लाइंस थाने पहुंचे और पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। पुलिस का कहना है कि इस मामले में जांच कर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

Share This Post

Post Comment