प. दीनदयाल उपाध्याय विशेष योग्यजन शिविर द्वारा चिन्हिकरण व पंजीयन

पाली, राजस्थान/महेन्द्र कुमारः प. दीनदयाल उपाध्याय विशेष योग्यजन शिविर में जिले के दिव्यांगों का चिन्हिकरण कर उन्हें पंजीबद्ध किया जाएगा। सोमवार को अटल सेवा केन्द्र में वीडियों कॉफ्रेंसिंग में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के मंत्री अरूण चतुर्वेदी ने कहा कि सरकार दिव्यांगो की सहायता के लिए कृत संकल्प है इसी मंशा को ध्यान में रखकर मानवता की भावना को मद्देनजर रखते हुए पूरे राज्य में विशेष योग्यजन शिविर आयोजित कर दिव्यांगो का चिन्हीकरण कर उन्हें सरकारी योजनाओं में लाभ दिलाने के लिए ऑनलाईन पंजीबद्ध किया जाएगा। उन्होंने बताया कि दिव्यांगो का पंजीकरण व चिन्हीकरण 24 सितम्बर तक अटल सेवा केन्द्रों पर किया जाएगा इसके अतिरिक्त प्रार्थी स्वयं भी पोर्टल पर जाकर सभी सूचनाऐं डाउनलोड कर पंजीबद्ध हो सकते है इसके माध्यम से दिव्यांगो को वर्तमान एवं भावी सरकारी योजनाओं का लाभ मिल सकेगा जो दिव्यांग पूर्व में लाभ ले रहे है उन्हें भी ऑनलाईन पंजीकरण करा लाना चाहिए। सामाजिक अधिकारिता विभाग के मुख्य सचिव ओ.पी. मीणा एवं सचिव अशोक जैन ने बताया कि पंजीकरण के पश्चात् 25 सितम्बर से 12 दिसम्बर 17 तक निशक्तता प्रमाणीकरण शिविर प्रत्येक विधानसभा क्षैत्रवार आयोजित किए जाएंगे इसी कड़ी में 13 दिसम्बर 17 से 31 मार्च 2018 तक पात्र निशक्तजनों को कृत्रिम अंग व सहायक उपकरण जिलास्तरीय शिविर में वितरित किए जाएंगे। पाली जिला कलक्टर सुधीर कुमार शर्मा ने बताया कि जिले के प्रत्येक ब्लॉक में व्यापक प्रचार प्रसार कर दिव्यांगो व आमजन में अभियान के बारे में जन जागरण अभियान चलाया जाएगा, और ज्यादा -ज्यादा दिव्यांगो को पंजीबद्ध करवाकर कैंप में सरकारी योजनाओं का लाभ प्रदान कराया जाएगा। सभी ब्लॉक लेवल अधिकारियों, सामाजिक न्याय एव अधिकारिता विभाग के अधिकारी, चिकित्सा विभाग एवं संबंधित विभाग के अधिकारियों को समय पर कार्य पूर्ण करने के लिए निर्देशित किया जा चुका हैं। उन्होंने वीसी में सुझाव दिया कि राज्य स्तर पर ऑनलाईन में ही दिव्यांग के विकलांग की श्रेणी निर्धारित हो ताकि कार्य सुचारू रूप से संचालित हो सके। उन्होंने वीसी में बताया कि जिले में ऑनलाईन निशक्तजनों जानकारी के लिए सभी तैयारिया पूर्ण कर सरकार की मंशा के अनुरूप कार्य करने के निर्देश दे दिए गए हैं। पंजीकरण के लिए प्रार्थी का नाम पता पिता का नाम, भामाशाह कार्ड, आधार कार्ड नम्बर, पेंशन भुगतान आदेश, मूल निवास, बीपीएल प्रमाण पत्र, निशक्तता प्रमाण पत्र सभी एसएसओआईडी बनाए उसके बाद ेवण्तंरेंजींदण्हवअण्पद पोर्टल पर एसएसओआईडी के माध्यम से खोलकर परिवार के सदस्य एवं स्वयं के बारे में पूरी जानकारी मय मोबाईल नम्बर के दर्ज करे साथ ही पंजीयन हेतु मूल निवास प्रमाण पत्र, परिवार की वार्षिक आय का प्रमाण पत्र, निःशक्ता प्रमाण पत्र ऑनलाईन प्रस्तुत करे। उन्होने बताया कि इस कार्य में बाल विकास विभाग, महिला पर्यवेक्षक आंगनवाड़ी कार्यकर्त्ता, सहायिका, आशा सहयोगिनी, साथिन, ग्राम सेवक आदि फील्डवर्कस् सहयोग करें। उन्होंने बताया कि 0 से 3 वर्ष आयु वर्ग एवं 3 से 6 वर्ष की आयु वर्ग के बालक बालिकाएं व गर्भवती महिलाओं, यात्री, किशोरी बालिका लक्षित समूह है। पंजीकरण में घर-घर जाकर सर्वे करे इस अभियान में स्वयंसेवी संस्थाओं व जनप्रतिनिधियों का सहयोग लिया जाएगा। सभी दिव्यांगों की एक बार ऑनलाईन जानकारी रेकर्ड होने पर उसे भविष्य में काम लेकर दिव्यांगों को लाभान्वित किया जाएगा। वीसी में नगर परिषद के सभापति महेन्द्र बोहरा, जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुरेशचन्द्र, सीएमएचओ डा. एसएस शेखावत, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के सहायक निदेशक जयप्रकाश, चन्द्रप्रकाश श्रीमाली सहित सभी संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

Share This Post

Post Comment