बेसिक शिक्षा विभाग में रिश्वतखेारी का मामला आया सामने

बरेली,उत्तर प्रदेश/गौरव भाटियाः सरकारी स्कूल के अध्यापक ने रिश्वत मागने वाले कर्मचारियों का विडियो शिकायत जिलाधिकारी सुरेन्द्र सिंह से की। उन्होंने बीएसए चंदन राम इकबाल को बुलाकर जमकर हडकाया और दोषियों पर मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया है। बरेली मझगांव के जलालनगर विघालय में तैनात सहायक अध्यापक नरेद्र कुमार ने जिलाधिकारी को बताया कि कुछ समय पहले सहायक बेसिक शिक्षा अधिकारी नरेंद्र सिहं ने ऐरियर के नाम पर अनूचित मागं करते हुये 1000 रुपये ले लिये इसके बाद से निरीक्षण के नाम पर उन्हें व साथियों प्रताडित किये जाने लगा। जिसका उन्होंने वीडियो बना लिया। इसकी जानकारी एबीएसए के गुगों को लगी तो पीडितों साथ हाथापाई हो गई। सितम्बर, 16 को में बाइक खराब होने कारण वह स्कूल देर से पहुंचा। एनपीआरसी हरपाल सिंह ने स्कूल का निरीक्षण किया और गैरहाजिर दिखा दिया अरोप है। एनपीआरसी हरपाल सिंह के माध्यम से एबीसए ने 1500 रू रिश्वत लेकर वेतन जारी कर दिया। जिसका अघ्यापक ने वीडियो बना लिया। 9 दिन बाद किये गये निरीक्षण मे सहायक अघ्यापक अमित और जय प्रकाश गैरहाजीर मिले आरोप है एबी आर सी राकेश ने 500 रुपये लेकर हाजरी लगवा दी। जिसका वीडियो बना लिया गया। नबम्बर माह मे मद्युमक्ख्ी आने के चलते स्कूल बंद कर प्रत्र व्यवहार रजिस्टर में अकित कर दिया गया। लेकिन बगैर नोटिस दिए सभी अध्यापकों का वेतन काट दिया गया और मांग की जाने लगी वीएसए की चाल तीन दिन पहले पीड़ित शिकायत लेकर एबीएसए के पास गया था। लेकिन भष्टाचार मे शामिल बीएसए ने उसे दफ्तर से भागा दिया। जिसके बाद जिलाधिकारी सुरेन्द्र सिंह से शिकायत की। जिलाधिकारी ने बीएसए की क्लास ली और दोषियों के खिलाफ कार्यवाही के आदेश दिए है।

Share This Post

Post Comment