राज्य सरकार की निर्देश पर अधिकारियों ने की पुनः बैठक

राज्य सरकार की निर्देश पर अधिकारियों ने की पुनः बैठक

बेगूसराय, बिहार/हरेराम दासः मुख्य्मंत्री के निर्देशानुसार शराब बंदी पर बेगुसराय जिले के अधिकारियों ने अपनी बचाव का पुख्ता इंतजाम करते हुए छोटे कर्मचारियों को सख्त निर्देश दिया। इस आदेश के बाद थोड़ी हलचल आई है और शराब बंदी को शक्ति से लागु करने की बात करने को लेकर प्रशासन में चर्चा का विषय बना हुआ है। हालांकि शराब बंदी से लेकर अब तक का सफर देखा जाए तो सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि इस बीच मे कैसे और क्यों शराब बिक्री हो रही थी? अब देखना यह है कि पुनः आदेश जारी होने के बाद बेगुसराय में शराब बिक्री पर प्रशासन अंकुश लगाने में कितना सफल या उससे अधिक विफलता पर आंसू बहाते है। प्रशासन में इतनी काबिलियत तो जरूर है जब चाहे बेगुसराय शराब मुक्त हो जाएगी। छोटी घटनाओं को छोड़ यदि हम गौर करे तो बगैर  प्रशासन की  मिलीभगत से एक भी अवैध सामग्री इधर से उधर नही किया जा सकता और अभी भी कहाँ कहाँ शराब बिक्री हो रही है कौन बिक्री कर रहा है इससे सभी बाक़िफ़ है। जरूरत है आदेश को पालन करते हुए इसे हम चुनौती के रूप में स्वीकार करें हम अपनी दायित्व का निर्वाह मुस्तैदी से करें। तभी हमारा समाज शराब मुक्त हो सकता है। लेकिन यदि हम छोटे मोटे स्वार्थो के चक्कर मे आगे पीछे लगाते रहे तो यह आदेश बैमानी होगी। इसके लिए हम सभी को मिल कर इस दिशा में सकारात्मक रूप से पहल की आवश्यकता है। वैसे हम देखे तो यह कदम उठाने के बाद भूरी भूरी प्रशंसा के पात्र रहे राज्य सरकार! अपने अपने तरीका से बुद्धि जीवियों ने धन्यवाद दिया लेकिन कुछ कमी के कारण उठाए गए कदम दुविधा की दौड़ से गुजरता रहा लोगों को कई तरह के भ्रम से गुजरते देखा गया समाज इस कदम को ह्रदय से लगाना चाहती है लेकिन कुछ अबैध करोबारियों को यह गले के नीचे नही अटक रहा है। देखा जाए तो कितनो के घर उजड़ने से बच गए।

Share This Post

Post Comment