मैदानी इलाकों से लेकर पहाड़ों तक मौसम ने कई रंग दिखाए

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः मैदानी इलाकों से लेकर पहाड़ों तक बुधवार को मौसम ने कई रंग दिखाए। कहीं दिनभर उमस के बाद शाम को बारिश ने राहत दी, तो कहीं बादल छाए रहे। कुछ स्थानों पर प्रचंड गर्मी और उमस ने लोगों की परेशान रखा। झारखंड में दोपहर बाद आए आंधी-पानी और बिजली गिरने से तीन लोगों की मौत हो गई। मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार जम्मू-कश्मीर की ओर पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हुआ है। उत्तरी राजस्थान, पंजाब और पाकिस्तान की तरफ चक्रवाती हवा भी चल रही है। इस के चलते कुछ इलाकों में शाम को मौसम में बदलाव आया। गुरुवार को भी आंशिक रूप से बादल छाए रहने की उम्मीद है। कुछ स्थानों पर आंधी के साथ बारिश होने के भी आसार हैं। राजधानी दिल्ली में पिछले कुछ दिनों की रिकॉर्ड गर्मी के बाद बुधवार शाम मौसम ने करवट ली। आंधी चलने के साथ बारिश भी हुई। बुधवार को तापमान 40.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। उत्तर प्रदेश के कई जिलों में दिनभर भीषण गर्मी पड़ी, तो कुछ जगहों पर बादलों के कारण उमस ने लोगों को परेशान किया। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कुछ जिलों में आंधी-पानी ने लोगों को गर्मी से कुछ राहत जरूर दी। वहीं हरियाणा में भी मौसम के कई रंग देखने को मिले। सुबह बादल छाने के बाद जहां लू ने लोगों को झुलसाया, वहीं शाम को आंधी चलने व कई जिलों में बारिश से लोगों को गर्मी से राहत मिली। बुधवार देर शाम हिसार, फरीदाबाद, सिरसा, रोहतक, भिवानी जिले के सिवानी क्षेत्र और जींद जिले में कहीं-कहीं बारिश हुई। कुछ स्थानों पर ओले भी गिरे। हिमाचल प्रदेश में भी गर्मी से लोग त्रस्त हो गए हैं। दिन के समय घर से लोगों का निकलना मुश्किल हो रहा है। मैदानी क्षेत्रों में प्रचंड गर्मी पड़ रही है। सुबह धूप खिलते ही गर्मी अपना असर दिखाना शुरू कर देती है। यही नहीं आने वाले तीन-चार दिन में भी बारिश की कोई उम्मीद नहीं है। उत्तराखंड में भी गर्मी का सितम जारी रहा। मैदानी इलाकों में लोग गर्मी से बेहाल रहे। झारखंड में दोपहर तक भीषण गर्मी से परेशान रांची, रामगढ़, गुमला समेत कई जिले के लोगों को दूसरे पहर हुई बारिश ने राहत दी। अधिकतम तापमान करीब दो से तीन डिग्री सेल्सियस नीचे गिरा। हालांकि इसी बारिश के साथ हुए वज्रपात और ओलावृष्टि ने तीन लोगों की जान ले ली। रामगढ़ में दो और हजारीबाग में एक की जान गई है। मौसम विज्ञान विभाग रांची केंद्र ने बुधवार दोपहर ही अलर्ट जारी कर दिया था कि कहां-कहां वज्रपात की संभावनाएं अधिक हैं।

 

Share This Post

Post Comment