अध्यात्म का प्रारंभ स्वयं की खोज से होता है

अध्यात्म का प्रारंभ स्वयं की खोज से होता है

नई दिल्ली/अरविंद कुमार यादवः दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान के दिल्ली स्थित दिव्य धाम आश्रम में रविवार को मासिक सत्संग कार्यक्रम का विशाल आयोजन किया गया। जिसमें संस्थान के विभिन्न प्रचारक एवं प्रचारिकायों द्वारा भजन संकीर्तन एवं आध्यात्मिक विचारों का प्रवाह किया गया। अपने प्रवचनों के दौरान सर्व श्री आशुतोष महाराज जी की शिष्या साध्वी जी ने कहा कि अध्यात्म का प्रारंभ तो स्वयं की खोज से होता है। यही सदा से समय की मांग भी रही है। लेकिन भौतिकवाद में डूबा मानव सदा से ही संसार को जानना चाहता है। हम स्वयं से अनजान हैं कि हम कौन हैं, कहां से आए हैं, इत्यादि प्रश्नों का हल हमारे पास नहीं है किन्तु मात्र संसार के ज्ञान से ही हम महानता के शिखर को छूना चाह रहे हैं जो हमारे जीवन का एक बहुत बड़ा भ्रम है।

3

अध्यात्म हमारे भ्रम को तोड़ता है और हमें सत्य की अनुभूति करवाता है। यह सत्य कहीं बाहर नहीं अपितु हमारे भीतर ही है और उसका दिव्य प्रकाश भी हमारे भीतर प्रकट होता है। हमारे महापुरुषों ने इस संसार को मिथ्या कह कर संबोधित किया जहाँ चारों तरफ भ्रम ही भ्रम है। आगे उन्होंने कहा कि इस मानव देह का लक्ष्य उस परमात्मा को प्राप्त करना है, जब हम उस अध्यात्म से जुड़ जाएगे, ईश्वर का प्रकटीकरण हमारे घट भीतर होगा तभी वास्तव में अध्यात्म द्वारा मानव की सद्शक्तियां पुनः जागृत हो पायेगी। मानव स्वयं वास्तव में पवित्र है। किन्तु विषयों का संग उस पर दुष्प्रवृतियों की परत चढ़ा देता है। हमारे महापुरूषों का कहना है कि यदि मानव स्वयं वास्तव में पवित्र न होता तो वह कभी भी अपनी खोई पवित्रता को दोबारा प्राप्त ही न कर पाता। इस समारोह में भारी संख्या में श्रद्धालुओं ने शिरकत की।

Share This Post

Post Comment