वीडियो रिकॉर्डिग कर बनेगी जाम मुक्त दिल्ली की योजना

वीडियो रिकॉर्डिग कर बनेगी जाम मुक्त दिल्ली की योजना

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः दिल्ली को जाम से निजात दिलाने के लिए दक्षिणी दिल्ली नगर निगम (एसडीएमसी) ने भागीरथ प्रयास शुरू कर दिया है। इसी कड़ी में राजधानी के 20 इंट्री प्वाइंट पर निगम लगातार 15 दिन (360 घंटे) वीडियो रिकॉर्डिग कराएगा। इसका उद्देश्य प्रत्येक घंटे दिल्ली में आने और जाने वाले वाहनों की संख्या का पता लगाना है। इसके बाद यातायात पुलिस समेत अन्य सिविक एजेंसियों संग मिलकर जाम से निजात दिलाने के लिए निगम विस्तृत कार्य योजना बनाएगा। निगम अधिकारी ने बताया कि 15 दिनों तक लगातार वीडियो रिकॉर्डिग कराने के लिए निजी कंपनियों की मदद ली जाएगी। इसके लिए टेंडर भी जारी किया जा चुका है। प्रत्येक इंट्री प्वाइंट पर दो एचडी कैमरे लगाए जाएंगे। निगम मुख्यालय में एक कंट्रोल रुम बनाया जाएगा, जहां से लाइव विश्लेषण किया जाएगा। इसके लिए एक टीम गठित की जाएगी। 15 दिनों तक वीडियो रिकॉर्डिग करने के बाद 60 दिनों तक उसका विश्लेषण किया जाएगा। इसके जरिये यह पता लगाया जाएगा कि प्रत्येक दिन अलग-अलग घंटों में वाहनों का कितना दबाव रहा? किस समय जाम लगता है एवं इसके कारण क्या हैं? इसकी भी रिपोर्ट तैयार की जाएगी, जिसके आधार पर यातायात पुलिस की टीम संग मिलकर निगम के वरिष्ठ अधिकारी जाम से निजात दिलाने के लिए विस्तृत योजना बनाएंगे। राजधानी में जाम का बड़ा कारण पड़ोसी राज्यों से आने वाले वाहन भी हैं। दो साल पहले यातायात पुलिस के वरिष्ठ पदाधिकारियों की बैठक में दिल्ली यातायात पुलिस ने हरियाणा और उत्तर प्रदेश के अधिकारियों से गुजारिश की थी कि वे बॉर्डर पर ही भारी वाहनों को रोकें। कम से कम तीन से चार ऐसे प्वाइंट बनाए जाएं, जहां पर भारी वाहनों को रोक कर रखा जाए। दिल्ली में नो इंट्री खुलने के समय से कुछ देर पहले उन्हें प्वाइंट से जाने की इजाजत दी जाए। उस समय दोनों राज्यों ने इस पर सहमति जताई थी। हालांकि, इस दिशा में कोई खास प्रयास नहीं हुआ। इनमें सामान ढोने वाले ट्रकों से लेकर टाटा 407 तक शामिल हैं। -कोंडली, रजोकरी, टिकरी, ढांसा बॉर्डर, झरौंदा, आया नगर, कालिंदी कुंज, कापसहेड़ा, डीएनडी टोल ब्रिज, बदरपुर-फरीदाबाद (मेन), बदरपुर-फरीदाबाद, प्रहलादपुर, शाहदरा (मेन), शाहदरा फ्लाईओवर, मंडोली मेन, गाजीपुर (मेन), गाजीपुर (पुराना), मोहन नगर, नोएडा मेजर चौक, न्यू कोंडली। यह पूरी कवायद जाम से निजात दिलाने के लिए की जा रही है। वीडियो रिकॉर्डिग के आधार पर विस्तृत विश्लेषण संभव हो पाएगा। हम यह जान पाएंगे कि किस समय वाहनों का दबाव ज्यादा होता है और दिल्ली को जाम मुक्त करने के लिए कौन-कौन से कदम उठाए जाने चाहिए।

Share This Post

Post Comment